shivpurir Court News: अभिषेक शर्मा, शिवपुरी नईदुनिया। 14 साल पहले मेहबान सिंह की हत्या को पुलिस ने हादसा बताकर केस खत्म कर दिया था, लेकिन मृतक के बेटे ने अपने पिता को हत्यारों को सजा दिलाने की ठानी और 14 साल तक कोर्ट में मुकदमा लड़ा। आखिरकार कोर्ट ने भी माना मेहबान सिंह की मौत कोई हादसा नहीं, बल्कि हत्या थी और आरोपितों पर केस भी दर्ज कराया।

प्राप्त जानकारी के अनुसार भैंसों को नदी से पानी पिलाने के विवाद में 30 नवंबर 2007 को मेहरबान सिंह की नत्थू पुत्र हरुआ कुशवाह, रवि पुत्र नत्थू, सिरनाम पुत्र छीतरिया और अशोक पुत्र नारायण जू ने हत्या कर लाश कुएं में फेंक दी थी। जांच के बाद करैरा थाना पुलिस ने इसे हादसा बताया। पुलिस का कहना था कि अंधेेरे के कारण मेहरबान सिंह कुएं में गिर गया। जबकि घटना की रात ही मेहरबान सिंह का बेटा हरी सिंह मौके पर गया था। उसे रिश्तेदारों से सूचना मिली थी कि उसके पिता को उक्त आरोपितों ने घेर लिया है। इसके बाद हरि सिंह अपने कुछ साथियों के साथ मौके पर पहुंचा, लेकिन मौके पर पहुंचे तो खेत में खून से सना पत्थर, फूलों के टूटे पौधे मिले, लेकिन मेहरबान नहीं था। सुबह फिर से तलाश की, तो मेहरबान की लाश सूखे कुएं में मिली। जांच से असंतुष्ट हरीसिंह ने इसकी शिकायत वरिष्ठ अधिकारियों से की। इस पर वर्ष 2008 में तत्कालीन एसडीओपी राजेश दंडौतिया ने जांच की और उनकी जांच में यह पाया गया कि यह हत्या है। वहीं दूसरी ओर आरोपितों के वकील ने एसडीओपी की जांच को हाइकोर्ट में चैलेंज कर दिया। दोबारा जांच हुई और साल 2011 में कोर्ट में मामले को हादसा मानकर खात्मा रिपोर्ट लगा दी गई। हरी सिंह ने फिर से 2011 में इसे कोर्ट में चुनौती दी। 10 साल तक मामला चलता रहा और आखिरकार 23 जुलाई 2021 को प्रथम श्रेणी मजिस्ट्रेट ज्ञानेन्द्र कुमार शुक्ला ने करैरा थाने में खात्मा रिपोर्ट खारिज कर दी। साथ ही, नत्थू, रवि, सिरनाम, अशोक पर हत्या का केस दर्ज कर लिया है। इनमें से एक आरोपित की मौत हो चुकी है।

पुलिस ने डायरी तक खाे दी, तत्कालीन टीआइ की वेतनवृद्धि रोकीः पुलिस की इस मामले में लापरवाही यह भी देखी जा सकती है कि इसकी केस डायरी ही खो चुकी है। कोर्ट में पूरा केस डायरी की फोटोकाॅपी पर लड़ा गया। उस समय करैरा टीआइ सुनील खेमरिया थे, जो वर्तमान में शिवपुरी में ही देहात थाना टीआइ हैं। केस डायरी गुम हाेने के मामले में विभागीय जांच भी हुई। इस लापरवाही के लिए कोर्ट ने टीआइ सुनील खेमरिया की एक वेतन वृद्धि एक साल के लिए रोकने का आदेश दिया है।

Posted By: vikash.pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local