शिवपुरी. नईदुनिया प्रतिनिधि। शिवपुरी-गुना संसदीय सीट से ज्योतिरादित्य सिंधिया पर ऐतिहासिक जीत दर्ज करने वाले सासंद केपी यादव इन दिनों अपने क्षेत्र में ही अपनी उपेक्षा से नाराज चल रहे हैं। उन्हें इस बात का अफसोस है कि उनके ही क्षेत्र के जिलों में उन्हें कोई तवज्जो नहीं दी जा रही है। सांसद केपी यादव का 15 दिसंबर 2021 को लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला को लिखा पत्र सामने आया है। इसमें सांसद ने कहा है कि पिछले ढ़ाई साल में मेरे क्षेत्र में कई काम हुए। प्रधानमंत्री सड़क योजना, नल जल योजना, आंगनवाड़ी केंद्र, गौशालाएं, रेलवे स्टेशन का जीर्णोद्वार, नवीन ब्रिज, मनरेगा योजना आदि के कार्य केंद्रीय मद से कराए जा रहे हैं। हाल ही में स्थापित हुए ऑक्सीजन प्लांटो के कार्यक्रमों में लोकार्पण या उद्घाटन की सूचना कई बार मुझे नहीं दी जाती। कई कार्यों के उद्घाटन की शिला पट्टिकाओं पर क्षेत्रीय सांसद का नाम तक नहीं होता है। इस संबंध में संबंधित अधिकारियों और मंत्रालयों को पत्र के माध्यम से अवगत कराया है लेकिन कोई सकारात्मक रवैया जिले के अधिकारियों ने नहीं अपनाया है।

इसके साथ ही सांसद का एक पत्र और इंटरनेट मीडिया पर प्रसारित हुआ है जिसमें उन्होंने सिधिंया समर्थकों पर पार्टी के सिद्धांतों की अवहेलना करने और उन्हें नजरअंदाज करने का आरोप लगाया है। बताया जा रहा है कि यह पत्र सांसद ने पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा को लिखा है जिसमें सिंधिया समर्थकों और उनके समर्थित मंत्रियों पर आरोप लगाए हैं। हालांकि उनके प्रतिनिधि के अनुसार यह पत्र उनके द्वारा नहीं लिखा गया है। उल्लेखनीय है कि सिंधिया और केपी यादव ने पिछले लोकसभा चुनाव एक-दूसरे के विरूद्ध लड़ा था और सिंधिया ने पहली बार हार का मुंह देखा था। ज्योतिरादित्य सिंधिया के भाजपा में आने के बाद तस्वीर बदल गई और उनका कद बढ़ गया। अक्सर कई मौकों पर सांसद और सिंधिया के बीच की खटास देखने को मिल जाती है। कुछ दिन पूर्व ही माधव राष्ट्रीय उद्यान में टाइगर सफारी स्वीकृत होने का श्रेय लेते हुए भी दोनों नेता दिखाई दिए थे।

रेलवे ने कार्यक्रम के आमंत्रण पत्र में नाम तक नहीं दिया

सांसद ने पत्र में लिखा है कि 15 नवंबर 2021 को पुर्नविकसित रानी कमलापति रेलवे स्टेशन का शुभारंभ प्रधानमंत्री ने किया। मंडल रेल प्रबंधक पश्चिम मध्य रेल भोपाल के आमंत्रण पत्र में गुना सासंद व परामर्शदात्री समिति सदस्य रेल मंत्रालय और पश्चिम मध्य रेल क्षेत्रीय रेल उपयोगकर्ता सलाहकार समिति का सदस्य होने के बाद भी स्थान नहीं दिया गया। हाल ही में गुना-ग्वालियर रेलखंड विद्युतीकरण के कार्य का भी उद्घाटन हुआ और उसमें मेरी मर्यादा का ख्याल नहीं रख गया।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local