टीकमगढ़। नईदुनिया प्रतिनिधि

नगर पालिका परिषद टीकमगढ़ में अध्यक्ष को लेकर अब शहरवासियों की निगाहें टिकीं हुईं हैं। वहीं कांग्रेस को बहुमत मिलने के बाद भाजपा भी तोड़ निकालने में जुटी हुई है। इसमें भाजपा के प्रभारी शैलेंद्र बरूआ पहले ही टीकमगढ़ आकर चर्चा कर चुके हैं। जबकि अब कांग्रेस की ओर से प्रभारी बनाए गए सुनील बोरसे शनिवार को टीकमगढ़ पहुंचे। इस दौरान कांग्रेस से चुनाव जीतकर आए पार्षद बैठक से नदारद रहे। ऐसे में मीडिया के इस सवाल पर उन्होंने कहा कि हमारे सभी पार्षद सुरक्षित स्थान पर हैं। नगर पालिका में इस बार अध्यक्ष और उपाध्यक्ष कांग्रेस पार्टी का ही बनेगा। उन्होंने जिले के पदाधिकारियों से चर्चा की। इस दौरान प्रदेश सचिव किरण अहिरवार सहित अन्य नेता मौजूद रहे।

गौरतलब है कि नगर पालिका टीकमगढ़ में अध्यक्ष और उपाध्यक्ष पद के लिए निर्वाचन 10 अगस्त को होना है। चुनाव से पहले भाजपा और कांग्रेस ने अपने-अपने पार्षदों की घेराबंदी शुरू कर दी है। कांग्रेस के सभी पार्षद चुनाव से पहले अचानक गायब हो गए हैं। शनिवार को चुनाव प्रभारी सुनील बोरसे ने कार्यकर्ताओं की बैठक ली, लेकिन शहर के सभी कांग्रेसी पार्षद नदारद रहे। जब इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि चुनाव में जिन लोगों से हमारा मुकाबला है, वे सत्ता में बैठे हैं। अब तक के चुनाव में भाजपा का जो स्वरूप सामने आया है, वह डाकुओं जैसा है। ऐसे लुटेरे लोगों से बचाने के लिए हमने अपने पार्षदों को सुरक्षित स्थान पर भेज दिया है। चुनाव के दिन सभी पार्षद उपस्थित हो जाएंगे और नगर पालिका में कांग्रेस का ही अध्यक्ष और उपाध्यक्ष बनेगा। बता दें कि टीकमगढ़ नगर पालिका के 27 वार्डों में से 14 में कांग्रेस के पार्षद चुनाव जीते हैं। जबकि 10 वार्डों में भाजपा और तीन वार्डों में निर्दलीय प्रत्याशियों ने जीत दर्ज की है। निर्दलीयों में एक भाजपा समर्थक और दो कांग्रेस समर्थक माने जा रहे हैं। चुनावी परिणाम में 14 पार्षदों के साथ कांग्रेस को अध्यक्ष बनाने के लिए पूर्ण बहुमत मिला है, जबकि भाजपा बहुमत से चार कदम दूर है।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close