पृथ्वीपुर। नईदुनिया न्यूज

जनपद पंचायत अंतर्गत आने वाली ग्राम पंचायत मडिया गांव में बेटियों द्वारा पिता के देहांत के बाद अंतिम संस्कार का फर्ज निभाते हुये मुखग्नि दी। ग्राम पंचायत मडिया ग्राम के शासकीय सेवा सिचाई एसडीओ के पद पर कार्यरत जगदीश प्रसाद अहिरवार 52 वर्ष का आकस्मिक निधन हो गया है और उनका कोई लडका नहीं होने से अंतिम संस्कार में ग्राम के लोगों द्वारा कई कयास लगाए जा रहे थे तभी उनकी 6 बेटियो ने पिता को मुखग्नि देकर की बात कही और शमशान घाट पहुंचकर उनका अंतिम संस्कार किया। कहते है कि वेटियां दो कुलों की शान होती है और वह बेटो से भी बढकर अपने दोनों कुलों के प्रति अपनी सहानभूति रखती है। ऐसा ही बाक्या ग्राम पंचायत मडिया के सिचाई विभाग में एसडीओ के पद पर कार्यरत जगदीश प्रसाद अहिरवार का 1 जनवरी की रात्रि में उनका गंभीर बीमारी के चलते उपचार के दौरान हृदय गति रूक जाने से निधन हो गया और उन्हें भोपाल से उनके ग्रह ग्राम मडिया लाया गया। जहां उनके अंतिम संस्कार करने की तैयारी की जा रही थी और सभी के मन में एक ही बात चल रही थी कि जगदीश के कोई पुत्र न होने के कारण उनका अंतिम संस्कार कौन करेगा। ऐसे में गांव की परम्परा को तोडते हुये बेटियों ने अपने पिता का अंतिम संस्कार करने का काम किया। और विधिविधान के साथ अंतिम शव यात्रा घर से शुरू हुई जो मडिया ग्राम के मुक्तिधाम पहुंची जहां उनकी बेटी सोनाली, रिंकी, पिंकी सहित 6 बेटियों ने पहुंचकर अंतिम संस्कार करने में उन्हे मुखग्नि दी। साथ ही मौके पर बडी संख्या में पहुचे ग्रामीणों ने अंतिम संस्कार उपरांत दो मिनट का मौनधारण कर दिवंगत आत्मा की शांति के लिये ईश्वर से प्रार्थना की है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local