बल्देवगढ़(नईदुनिया न्यूज)।

विवेकानंद केंद्र कन्याकुमारी मध्य प्रांत द्वारा गुरुवार को नगर के तहसील कार्यालय सभागार में पुष्पांजलि कार्यक्रम का आयोजन किया गया। तहसीलदार डॉ. अनिल गुप्ता ने स्वामी विवेकानंद जी के चित्र पुष्प अर्पण कर स्वामी विवेकानंद जी के जीवन के पहुलओं से जुड़े विभिन्ना प्रेरक प्रसंगों पर विचार व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि स्वामी विवेकानंद का कर्म के सिद्धांतों पर प्रगाढ़ विश्वास था, उनके जीवन से कर्म करने की अद्भुत प्रेरणा हमें मिलती है। विवेकानन्दजी का मानना था कि ईश्वर कभी भी थाली में सजाकर किसी को कुछ नहीं देता, विवेकानंद जी के वक्तव्य का उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा कि विवेकानन्द जी ने एक बार कहीं कहा था कि जब मैंने ईश्वर से रोटी और अनाज मांगा तो उन्होंने मुझे पहेलियां थमा दीं, जब पैसा मांगा तो ईश्वर ने मुझे मेहनत करने की प्रेरणा दी। जब मैंने खुशियां चाहीं तो ईश्वर ने मुझे दुःख से भरे लोग दिखाए, जब मैंने शांति चाही तो ईश्वर ने मुझे दूसरों की मदद करने का रास्ता दिखाया। कुल मिलाकर ईश्वर ने मुझे वो नहीं दिया जो मैंने चाहा था, ईश्वर ने मुझे वो दिया जो मेरे लिए जरूरी था और कहा कि में अपने हर कार्यालय में स्वामी विवेकानन्द जी के विचारो को लिखबाता हूं जिससे मेरे कार्यालय में आने वाले हर व्यक्ति उसे पढ़े मुझे स्वामी विवेकानन्द जी का एक विचार बहुत प्रभावशाली लगता है उस प्रभु का सेवक हूं जिसे लोग मनुष्य कह्ते हैं स्वामी विवेकानंद। कार्यक्रम का संचालन गीत से करते हुए सुरेन्द्र असाटी ने कहा कि विवेकानन्द जी का जीवन सही दिशा में सोचने वाले हर इंसान की दिंगी मे आने वाले संघर्ष, त्रासदी और विजित होकर देश और समाज की प्रेरणा बन जाने की एक रोमांचक कहानी है। कार्यक्रम में प्रमुख रूप से हरिशंकर तिवारी, कैलाश बहदूर सक्सेना, जितेन्द्र सिंह ठाकुर, सत्यम सिंह ठाकुर, विवेक असाटी, रवींद्र असाटी, राहुल असाटी, दिनेश पुष्पकार व तहसील के सभी कर्मचारी उपस्थित रहे।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local