टीकमगढ़(नईदुनिया प्रतिनिधि)।

अनंतपुरा क्षेत्र के तखा में रविवार सुबह उस समय अफरा -तफरी मच गई, जब प्रशासनिक अधिकारी पुलिस बल के साथ एक पटैती भूमि से कब्जा हटाने पहुंचे। यहां वर्षो से मकान बनाकर रह रहे गरीबों ने अधिकारियों के सामने काफी मिन्नते की और पट्टे भी दिखाए। प्रशासन के अधिकारियों ने किसी की नहीं सुनी और एक-एक करके अनाधिकृत रूप से पटैती भूमि में बनाए गए मकानों को जेसीबी मशीन से जमीदोज कर दिया। तहसीलदार ने कहा कि पट्टे फर्जी हैं, इनकी जांच होगी। किसने और कब दिए।

गौरतलब है कि टीकमगढ़ निवास राकेश कामरान पुत्र पीडी कामरान के स्वामित्व की भूमि नजदीकी ग्राम पंचायत तखा में स्थित है। उक्त भूमि पर राकेश अहिरवार, पंचम सिंह, सुरेन्द्र अहिरवार, पप्पू मुसलमान, बिहारीलाल अहिरवार,विक्रम बंशकार, रक्खू अहिरवार ने करीब 20-25 वर्ष पूर्व से रह रहे थे, जिनके पास पट्टे थे। पट्टे किसने और कब दिए, यह जांच का विषय है। राकेश कामरान की भूमि पर अनाधिकृत रूप से कब्जा होने पर उन्होंने तहसीलदार के न्यायालय में वाद प्रस्तुत किया था, जिसमें राकेश कामरान को सफलता भी मिली। बताया जाता है कि 9 जनवरी 17 को उक्त भूमि से इन लोगों का कब्जा हटाने के लिए बेदखली आदेश भी पारित किया गया था, लेकिन इसके बाद भी इन लोगों ने उक्त भूमि से कब्जा नहीं हटाया।

बताया जाता है कि राकेश कामरान ने कब्जाधारियों से कहा था कि इस भूमि पर से अपना कब्जा हटा लो और आप लोगों को दूसरी और भूमि दिला देगे, और अगर आप लोग चाहते हो तो उसकी रजिस्ट्री भी करा देंगे और मकान बनाने में जो खर्चा आएगा वह भी दे देगे, लेकिन इसके बाद भी उक्त युवक राकेश कामरान की भूमि पर से कब्जा हटाने को तैयार नहीं थे।

इस संबंध में तहसीलदार अनिल तलैया ने कहा कि राकेश कामरान द्वारा तहसीलदार के न्यायालय में आवेदन दिया था कि न्यायालय के आदेश भी इन लोगों का कब्जा नहीं हट सका है, जिसके चलते तहसीलदार ने 20 फरवरी को उक्त लोगों के खिलाफ बेदखली वारंट जारी किया और यह भी निर्देशित किया कि बेदखली वारंट प्राप्त होते ही अपना कब्जा हटा लें अन्यथा सख्त कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। लेकिन जब लोगों ने कब्जा नहीं हटाया तो तीसरे दिन रविवार को अनुविभागीय अधिकारी मनोज कुमार के नेतृत्व में तहसीलदार अनिल तलैया, देहात थाना प्रभारी नसीर फारूखी के अलावा भारी संख्या में मौजूद पुलिसकर्मियों की मौजूदगी में जेसीबी मशीन से अतिक्रमणकारियों का अवैध कब्जा घंटे भर में ही जमीदोज कर दिया।

जमीन का पट्टा दिखाकर करते रहे मिन्नते

प्रशासनिक अधिकारी जब पुलिस बल के साथ ग्राम पंचायत तखा पहुंचे तो काफी संख्या में महिलाएं व बच्चे मौजूद हो गए। महिलाओं ने अधिकारियों को अपनी भूमि का पट्टा भी दिखाते हुए कहा कि वह वर्षो से इस भूमि पर काबिज होकर मकान बनाकर निवास कर रहे है, जिसमें उनकी लाखों रूपए की कमाई खर्च हुई है। लेकिन अधिकारियों ने किसी की नहीं सुनी और मकानों को जमीदोज कर दिया।

पक्के मकानों से हुए बेघर

प्रशासन ने इन अवैध अतिक्रमणकारियों को पटैती भूमि से तो बेदखल कर दिया। अब सवाल यह उठता है कि आखिरकार इन लोगों को सहारा कौन देगा। कसूर किसी का हो, लेकिन बच्चों का कोई कसूर नहीं है जो रविवार को खुले आसमान में रात गुजारेंगे। वही मासूम बच्चे तो मकानों के टूटने के बाद खुले मैदान में बिखरे सामानों में अपने खिलौने खोजते नजर आए।

--------------

हमने तो सिर्फ कोर्ट के आदेश का पालन किया है। जिस व्यक्ति की जमीन पर अनाधिकृत रूप से इन लोगों ने कब्जा किया था, उन्हें बेदखली वारंट जारी कर कब्जा हटाने के लिए निर्देशित किया था। जहां तक पट्टो की बात है तो अब इसकी जांच की जाएगी कि आखिरकार इन लोगों को पट्टे किस आधार पर जारी किए गए। यदि पट्टे फर्जी पाए गए तो संबंधित के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

- अनिल तलैया, तहसीलदार, टीकमगढ़

फोटो 32

टूटा हुआ मकान

फोटो 33

अतिक्रमण हटाती हुई जेसीबी मशीन

फोटो 34

खुले मैदान में बिखरा पडा गृहस्थी का सामान

फोटो 35

खुले आसमान में बैठी महिलायें व बच्चे

फोटो 36

जमीन का पट्टा दिखाती हुई महिला

Posted By: Nai Dunia News Network