टीकमगढ़। नईदुनिया प्रतिनिधि

सीएम हेल्पलाइन दबाव डलवाकर कटवाने का आडियो वायरल होने के बाद अब टीकमगढ़ में ग्राम रोजगार सहायक और जिला पंचायत सीईओ आमने-सामने आ गए हैं। रोजगार सहायक जहां जिला पंचायत सीईओ पर लेनदेन के आरोप लगा रहे हैं। वहीं जिला पंचायत सीईओ भी अब यह कहते हुए नजर आ रहे हैं कि उनके बाप ऐसा नहीं कह सकते हैं। बुधवार को पूरे दिन जिला पंचायत और जनपद पंचायत में यह मामला तूल पकड़ रहा, जहां पर रोजगार सहायक भी एकत्र हो गए और उन्होंने जनपद पंचायत में तालाबंदी कर दी। इसके साथ ही अब कलमबंद हड़ताल पर जाने का फैसला कर लिया है।

गौरतलब है कि बुधवार को जिलेभर के रोजगार सहायक जिला मुख्यालय पर एकत्र हुए, जिसमें उन्होंने जिला पंचायत सीईओ सुदेश कुमार मालवीय की कार्यप्रणाली को लेकर सवाल उठाए। इसमें रोजगार सहायकों ने कहा कि आदेश करने और निर्माण कार्यों की स्वीकृति के एवज में जिपं सीईओ द्वारा 50-50 हजार रूपयों की मांग की जाती है। अब शिकायतें होने के बाद रोजगार सहायकों को गाली-गलौज की जा रही है। रोजगार सहायकों ने कहा कि ऐसे में रोजगार सहायक कैसे कार्य कर पाएंगे। अब रोजगार सहायकों ने अपने ही अफसर जिला पंचायत सीईओ के विरूद्ध मोर्चा खोल दिया और उनके माफी मंगवाना चाहते हैं, जो चर्चा का विषय बन गया है।

--------------

गाली-गलौज के बाद एकत्र हुए रोजगार सहायक

ग्रामीण क्षेत्रों से लोगों द्वारा 181 सीएम हेल्पलाइन पर विभिन्ना शिकायतें दर्ज कराईं जातीं हैं। शिकायत दर्ज होने के बाद उनके निराकरण को लेकर विभाग आगे की कार्रवाई करता है। टीकमगढ़ की ग्राम पंचायत अस्तौन में शिकायत होने के बाद उसे कटवाने के लिए जिला पंचायत सीईओ सुदेश कुमार मालवीय ने कटवाने की बात कही। इसमें उन्होंने फोन पर रोजगार सहायक और संगठन के संभागीय उपाध्यक्ष मनोज श्रोती को गाली गलौज करते हुए शिकायत निराकरण को कहा। इसके साथ ही रोजगार सहायक शिवभान सिंह के साथ गाली-गलौज का मामला सामने आया है। इस बात को लेकर बुधवार को जिलेभर के रोजगार सहायक एकत्र हो गए हैं।

--------------------

रोजगार सहायकों ने डाला ताला

जिला मुख्यालय पर अचानक ही ग्राम रोजगार सहायक एकत्र हो गए। रोजगार सहायक एकत्र होने के बाद जिला पंचायत सीईओ के विरोध में जमकर नारेबाजी करने लगे और उन्होंने जनपद पंचायत कार्यालय पहुंचकर तालाबंदी कर दी। इस दौरान जनपद पंचायत और जिला पंचायत कार्यालय में हड़कंप मचा रहा। रोजगार सहायकों ने एक ज्ञापन तैयार कर मुख्यमंत्री के नाम कलेक्टर को सौंपा। इसमें मुख्य रूप से जिला पंचायत सीईओ सुदेश कुमार मालवीय को हटाने की मांग की। रोजगार सहायकों ने कहा कि जिले में इनके रहते हुए भ्रष्टाचार पनप रहा है।

-----------------

तीन माह से नहीं मिली सैलेरी

रोजगार सहायकों ने ज्ञापन देते हुए बताया कि जिला पंचायत सीईओ द्वारा लगातार ही परेशान किया जा रहा है। साथ ही 24 घंटे कार्य करने की बात कही जाती है। इसमें संविदा पर नियुक्ति होने की बात कहते हुए धमकाया भी जाता है। इससे रोजगार सहायक काफी आहत हैं। साथ ही रोजगार सहायकों को तीन-तीन माह से सैलेरी का भुगतान नहीं किया गया है। ऐसे में परिवार के भरण पोषण को लेकर काफी समस्याएं आ रहीं हैं। उन्होंने कहा कि अब जब तब सीईओ का तबादला या माफी नहीं मांग लेते हैं, तब तक कार्य पर वापस नहीं लौटेंगे। मामले में जिला पंचायत सीईओ सुदेश कुमार मालवीय ने कहा कि भगवान पर भी आरोप लगे थे, हम पर लग गए तो क्या हुआ। 50 हजार रूपये लेने की बात रोजगार सहायकों का बाप भी नहीं कह सकता। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि उनको जो दिखे, वह करें। मुझे और कुछ नहीं कहना है।

-------------

संभागीय उपाध्यक्ष व अस्तौन के रोजगार सहायक मनोज श्रोती के साथ ही पूरे जिले के रोजगार सहायकों को जिपं सीईओ ने गाली-गलौज करते हुए अपशब्द कहे हैं, जिसका आडियो वायरल हुआ है। हम इसका पुरजोर तरीके से विरोध करेंगे। जिपं सीईओ रोजगार सहायकों से माफी मांगे या फिर उनका ट्रांसफर हो, तब ही हम लोग काम पर लौटेंगे, फिलहाल कलमबंद हड़ताल पर सभी रोजगार सहायक हैं।

- संदीप सिंह यादव, जिलाध्यक्ष, ग्राम रोजगार सहायक संगठन

-----------------

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local