टीकमगढ़। नईदुनिया प्रतिनिधि

सोमवार 10 जनवरी को जिले के प्रभारी मंत्री टीकमगढ़ दौरे पर आ रहे हैं। प्रभारी मंत्री विश्वास कैलाश सारंग के आगमन को लेकर कार्यक्रम भी जारी कर दिया गया है। लेकिन उनके कार्यक्रम से एक बार फिर जिला योजना समिति की बैठक का बिंदु गायब है। जिला योजना समिति की बैठक को लेकर जिले के आला अधिकारियों ने भी कोई रूपरेखा तैयार नहीं की है। 14 अगस्त 2019 के बाद अब तक यह बैठक आयोजित नहीं हो सकी है। ऐसे में अधिकारियों की कार्यप्रणाली पर सवाल उठते हैं। योजना सांख्यकीय विभाग के अफसरों का तर्क है कि नगरीय प्रशासन और जनपदों में जनप्रतिनिधि का कार्यकाल समाप्त हो जाने के बाद कोरम पूरा नहीं हो सका है। जबकि सागर संभाग के ही सभी पड़ोसी जिलों में यह बैठक आयोजित हो चुकी है। ऐसे में इनका तर्क भी समझ से परे है।

गौरतलब है कि विभागीय कार्यों की समीक्षा के साथ ही संविदा कर्मियों की अवधि बढ़ाने और अन्य कार्यों को लेकर प्रभारी मंत्री की अध्यक्षता में जिला योजना समिति की बैठक आयोजित की जाती है। लेकिन दो साल चार महीने 25 दिन बीत जाने के बाद भी जिला योजना समिति की बैठक आयोजित नहीं हुई है। इससे कई कार्य अटके हुए हैं। इससे बैठक का मामला अटका हुआ है। बैठक को लेकर कोई कार्ययोजना भी तैयार नहीं की गई है। फिलहाल कोई एजेंडा नहीं होने के चलते अभी भी यह तय नहीं हो सका कि आखिर जिला योजना समिति की बैठक कब आयोजित होगी। जबकि प्रभारी मंत्री श्री सारंग का आगमन पहले से ही तय बना हुआ है। इस दौरान विभागीय कार्यों की समीक्षा बैठक, देहात थाना का लोकार्पण कार्यक्रम में शामिल किया गया है।

पड़ोसी जिलों में हो चुकीं हैं बैठकें

प्रशासन भले ही यह दावा कर रहा है कि फिलहाल कोरम पूरा नहीं हो सकता है। लेकिन हकीकत यह है कि सागर संभाग के मुख्यालय सहित अन्य जिलों में जिला योजना समिति की बैठक हो चुकी है। लेकिन यहां पर बैठक आयोजित करने को लेकर कोई रूचि नहीं दिखा रहे हैं। जबकि मप्र के सभी जिलों में नगरीय निकायों में प्रशासन नियुक्त हैं। लेकिन टीकमगढ़ में हालात अलग ही चल रहे हैं। बता दें कि छतरपुर जिले में प्रभारी मंत्री ओमप्रकाश सकलेचा ने 11 जुलाई 2021, 11 जुलाई 2021 को सागर जिले में प्रभारी मंत्री अरविंद भदौरिया, दमोह में प्रभारी मंत्री गोविंद सिंह राजपूत की अध्यक्षता में 18 जुलाई 2021 और 10 जुलाई 2021 को पन्नाा में जिला योजना समिति की बैठक हुई है। लेकिन टीकमगढ़ में यह बैठक क्यों नहीं, समझ से परे है।

तत्कालीन कांग्रेस सरकार के दौरान हुई थी बैठक

तत्कालीन कांग्रेस की सरकार के दौरान जिले में जियोस की बैठक हुई थी। इस दौरान 14 अगस्त 2019 को तत्कालीन प्रभारी मंत्री गोविंद सिंह राजपूत ने बैठक की अध्यक्षता की थी। लेकिन अब जिले में प्रभारी मंत्री के रूप में चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास कैलाश सारंग को नियुक्त किया गया है। प्रभारी मंत्री विश्वास कैलाश सारंग कई बार टीकमगढ़ आ चुके हैं। लेकिन अभी तक बैठक का एजेंडा बनाने के भी निर्देश नहीं दिए हैं। साथ ही दो साल पहले हुई बैठक के दौरान विभिन्ना विभागों के कई बिंदुओं पर चर्चा हुई थी। लेकिन अभी तक पालन प्रतिवेदन का अमल नहीं हो सका। कई बिंदुओं पर अभी तक कार्रवाई नहीं होने से सवाल खड़े हो रहे हैं। अब बैठक कब होगी, यह कहना मुश्किल हो रहा है।

वर्जन

प्रभारी मंत्री के आगमन को लेकर जानकारी है। विभागीय समीक्षा बैठक आयोजित हो रही है। लेकिन नगरीय निकाय और जिला पंचायत के सदस्यों का कार्यकाल समाप्त होने के कारण सदन का कोरम पूरा नहीं हो सकता है। ऐसे में बैठक नहीं हो सकती है। दमोह और अन्य जिलों में बैठक हुई थी, लेकिन वहां पर शायद कोरम पूरा नहीं हुआ था।

- रामबाबू गुप्ता, जिला योजना एवं सांख्यकीय अधिकारी, टीकमगढ़।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local