- जतारा जनपद पंचायत के एकल खाता से फर्जीवाड़ा कर किए गए हैं 60 लाख रूपए ट्रांसफर, सीईओ की शिकायत पर कार्रवाई

- जनपद पंचायत के खाता पर डाका, लिपिक और बैंक कर्मी मालामाल

टीकमगढ़। जिले की जनपद पंचायत जतारा के राशि ट्रांसफर करने के मामले में अब बैंक अधिकारियों और कर्मचारियों में पांच को चिंहित किया गया है। वहीं जनपद पंचायत के लिपिक सहित 21 आरोपितों के विरूद्ध धोखाधड़ी के अलावा अन्य धाराओं के तहत मामला दर्ज किया। रविवार को पुलिस की टीम आरोपितों की तलाश में जुटी रही। जिपं का लिपिक मामले में मुख्य आरोपित हैं, जिसकी सरगर्मी से तलाश हो रही है। वहीं अब 2018-19 में फिर लाखों रुपये का इसी प्रकार से घोटाला सामने आ रहा है। फिलहाल पूरे मामले की जांच कलेक्टर द्वारा गठित टीम कर रही है, जो बुधवार तक पूरी जांच के बाद रिपोर्ट कलेक्टर सुभाष कुमार द्विवेदी के समक्ष प्रस्तुत करेगी। इस मामले से जनपद पंचायत में हड़कंप मचा हुआ है।

गौरतलब है, कि जनपद पंचायत जतारा में एकल खाता से राशि कुछ खातों में ट्रांसफर की गई है। इसमें जनपद पंचायत के लिपिक सहित बैंक की भूमिका संदिग्ध मानी जा रही थी। लेकिन अब पुलिस के निशाने पर भी बैंक आ गया है। भारतीय स्टेट बैंक की शाखा जतारा ने बैंक को संबोधित न होने के बाद भी फर्जी पत्र के आधार पर 60 लाख रुपये 20 लोगों के खातों में ट्रांसफर कर दिए हैं। जबकि अब ईपीओ के माध्यम से भुगतान किए जाते हैं। शासन द्वारा पत्र के आधार पर भुगतान किए जाने को लेकर आदेश जारी किया गया था। लेकिन यहां पर शासन के आदेश को दरकिनार करते हुए फर्जीवाड़ा कर बैंक ने इस मामले में शामिल होकर राशि ट्रांसफर की और फिर पूरी राशि का बंदरबांट किया गया। इससे शासन की लाखों रुपये की राशि का गबन हुआ है। धोखाधड़ी करने पर अब पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है।

क्या है मामला

पहले जनपद पंचायत में विभिन्ना योजनाओं के अलग-अलग खाता हुआ करते थे। लेकिन शासन ने अप्रैल 2017 में एक आदेश जारी करते हुए सभी खातों को बंद कर एकल खाता कर दिया था। इसमें भी ईपीओ यानि इलेक्ट्रॉनिक पेमेंट ऑर्डर के आधार पर संबंधित योजना का हितग्राही या वेंडर को भुगतान करने की बात कही थी। लेकिन जनपद पंचायत जतारा में ऐसा फर्जीवाड़ा होता रहा, जहां पर बिना ईपीओ के ही लिपिक ने जनपद पंचायत सीईओ के फर्जी हस्ताक्षर बनाकर बैंक में आदेश भेजे और उसमें संबंधित लोगों के बैंक खाता और आइएफएससी कोड सहित राशि लिखकर दी। बैंक की मिलीभगत होने के चलते वह इसका भुगतान भी करते गए। ऐसे में लाखों रुपये धोखाधड़ी कर निकलते रहे। मजे की बात यह है, कि इसमें बैंक का नाम भी नहीं, फिर भी भुगतान हुआ। मामले की जानकारी जनपद पंचायत सीईओ आनंद शुक्ला को लगते ही उन्होंने तत्काल ही शिकायत कलेक्टर और पुलिस से की। इसके बाद पूरा मामला उलझा।

इनके विरूद्ध हुई एफआइआर दर्ज

पुलिस ने 21 लोगों के विरूद्ध धारा 420, 406, 409, 464, 468,471,34 के तहत मामला दर्ज करते हुए विवेचना में लिया है। वहीं आरोपितों की तलाश भी शुरू कर दी है। टीआइ हिमांशु चौबे ने बताया कि जनपद पंचायत जतारा में पदस्थ रहे लिपिक सहायक ग्रेड-3 द्रगपाल सिंह घोष, मजीत खान निवासी दिगौड़ा, मेहरबान सिंह निवासी वर्माताल, फातिमा बानो निवासी दिगौड़ा, राकेश साहू निवासी आनंद नगर भोपाल, रामनाथ घोष निवासी कुराई, खुशबू राजा निवासी वर्माताल, रूबीराजा निवासी वर्माताल, प्रताप सिंह सोलंकी निवासी रामनगर, प्रहलाद सिंह निवासी वर्माताल, सुनील अहिरवार निवासी महेंद्र महेबा, राजपाल पाल निवासी टीकमगढ़, कृष्णपाल पाल निवासी टीकमगढ़, रोशन सिंह निवासी जतारा, उर्मिला सिंह सोलंकी निवासी जतारा, मेहरबान सिंह, हरदयाल अहिरवार निवासी टीकमगढ़, कल्लन यादव निवासी टीकमगढ़, सुनील रैकवार, अनूप सिंह, भुमानी प्रसाद यादव के विरूद्ध मामला दर्ज हुआ है। मजे की बात तो यह है कि टीकमगढ़ जिला तो छोड़िए, यहां पर भोपाल तक जपं की राशि ट्रांसफर हो गई है।

पूछताछ में लिपिक का ले रहे नाम

कलेक्टर सुभाष कुमार द्विवेदी ने पांच सदस्यों की एक टीम बनाई है। टीम में ट्रेजरी ऑफिसर विभूति अग्रवाल, लीड बैंक मैंनेजर रमेश जाट, लेखाधिकारी जिपं शिवरंजन सिंह, एसडीएम जतारा डॉ. सोनवणे सौरभ, एसडीओपी जतारा योगेंद्र सिंह भदौरिया शामिल हैं। टीम ने बताया कि खाताधारकों से पूछताछ हुई है, तो सभी लोगों द्वारा द्रगपाल सिंह का नाम लिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि अभी लाखों रूपए का घोटाला 2018-19 में भी निकल सकता है। फर्जीवाड़ा कर फंड ट्रांसफर सामने आ रहा है, लेकिन बिल, बाऊचर और कैशबुक का मिलान होना शेष है। इसके बाद मामला स्पष्ट हो जाएगा।

मामले में मुख्य आरोपित द्रगपाल सिंह घोष हैं, जिसकी तलाश की जा रही है। जतारा जपं से हटाकर उसे बल्देवगढ़ पदस्थ किया गया था। पुलिस टीम सभी आरोपितों को शीघ्र ही गिरफ्तार कर लेगी। बैंककर्मियों को चिंहित कर लिया है।

हिमांशु चौबे, टीआइ, जतारा।

Posted By:

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020