उज्जैन। महाकालेश्वर मंदिर के विस्तारीकरण कार्य में सामने के 11 मकानों का अधिग्रहण शुरू कर दिया गया है। यहां प्रशासन ने पूर्व में ही नोटिस चस्पा कर दिए थे, गुरुवार सुबह यहां बड़ी संख्या में पुलिस बल मौजूद रहा। इस दौरान मकान मालिक अपना सामान ले जाते नजर आए। मकान मालिकों का कहना है कि उन्हें दो-तीन दिन की और मोहलत दी जाए।

ज्ञात हो कि महाकाल मंदिर परिसर को बड़ा और सुंदर बनाने के लिए उज्जैन स्मार्ट सिटी कंपनी और महाकाल मंदिर प्रबंधन समिति मंदिर के पास 70 मीटर के दायरे में 13,145 वर्ग मीटर भूमि और उस पर बने 152 घरों का अधिग्रहण कर रही है। प्रथम चरण में महाकाल मंदिर के सामने बने 11 मकान और त्रिवेणी संग्रहालय से चारधाम मंदिर पहुंच मार्ग के बीच बने 11 मकानों के अधिग्रहण की कार्रवाई की गई है। महाकाल मंदिर के सामने 11 भवनों के मालिक हैं साईं फाउंडेशन इंडिया, उल्लास वेंकटेश गांधे, विशाल नारायण राव, गजानन विश्वनाथ राव, शारदा शिवप्रसन्ना चतुर्वेदी, आकाश भूपेंद्र जैन, आशीष चंद्रशेखर शर्मा, शोभा विनायक तेलंग, अनंत टिकेवर, गणेश मुआवजा रु. सुरेशचंद्र योगी परिवार के परचुरे के 11 भवनों को हटाने के लिए 12 करोड़ 46 लाख की राशि स्वीकृत की गई है।

प्रभावितों को भवन खाली करने का नोटिस भी दिया गया है। महाकाल मंदिर प्रबंधन समिति ने आधार, कार्ड, पैन कार्ड और बैंक खाता संख्या उपलब्ध कराने पर चारों भवन स्वामियों के बैंक खातों में पैसा जमा कराया है. 11 मकानों की भूमि के अधिग्रहण से महाकाल क्षेत्र के विस्तार के लिए 1274 वर्ग मीटर भूमि उपलब्ध होगी। इस जमीन पर महाकाल वन क्षेत्र का विकास किया जाएगा। उद्यान का निर्माण भूनिर्माण कर किया जाएगा। मौजूदा 12 मीटर चौड़ी सड़क को 24 मीटर चौड़ा किया जाएगा।

Posted By: Prashant Pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local