उज्जैन (नईदुनिया प्रतिनिधि)। उज्जैन नगर निगम में अपर आयुक्त आरएस मंडलोई को छोड़ सहायक आयुक्त नीता जैन को सरकारी आवास का आवंटन कर दिया गया है। यह बात अपर आयुक्त आरएस मंडलोई को रास नहीं आई। उन्होंने मामले की शिकायत आयुक्त अंशुल गुप्ता की है।

मंडलोई ने शिकायती पत्र में लिखा है कि निगम के ग्रांड होटल परिसर में स्थित सरकारी आवास क्रमांक 4 मुझे आवंटित किया गया था। मैंने ये आवास तत्कालीन उपायुक्त योगेंद्रसिंह पटेल से रिक्त कराया था। आवास रिक्त हुआ तो कार्यालयीन आदेश से सरकारी आवास 4 जनवरी 2022 को सहायक आयुक्त नीता जैन को बिना युक्तियुक्तकरण किए आवंटित कर दिया। उस अधिकारी को जो सहायक आयुक्त हैं, जिनकी परीविक्षा अवधि भी समाप्त नहीं हुई है। ट्रेप होने पर उन्हें लूप लाइन में भेजा गया है। बावजूद यहां उन्हें उपकृत करने को करोड़ों रुपये के सामान की खरीदी करने वाले स्टोर विभाग का दायित्व भी दे दिया गया है। ये शिकायती पत्र 10 जनवरी को निगम आयुक्त को पहुंचाया था। 12 दिन बाद भी इस पर कोई कार्रवाई नहीं हुई है। अपर आयुक्त का कहना है कि वे अपनी ज्वाइनिंग के बाद से एक होटल में निवास कर रहे हैं।

वेतन काटने पर भी आयुक्त से हुई थी बहस

पिछले महीने अपर आयुक्त आरएस मंडलोई और निगम आयुक्त अंशुल गुप्ता के बीच ग्रांड होटल में तीखी बहस भी हुई थी। कारण, अपर आयुक्त का 10 दिन का वेतन काटने के आदेश जारी होना था। दरअसल, मंडलोई अपने पिता का देहांत होने पर लंबी छुट्टी पर चले गए थे। आयुक्त को पता चला कि वे बगैर सूचना इतनी लंबी छुट्टी पर गए हैं तो उन्होंने वेतन काटने का आदेश जारी कर दिया था। विवाद के बाद सही वजह पता चलने और नोटिस का जवाब मिलने पर वेतन बहाल कर दिया गया था।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local