उज्जैन (नईदुनिया प्रतिनिधि), Bird Flu Alert in Ujjain। उज्जैन में बर्ड फ्लू की आशंका के चलते पशु चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग ने मंगलवार को यहां मृत मिले चार और कौओं के स्वाब के सैंपल जांच के लिए भोपाल स्थित हाई सिक्युरिटी लैब भेजे हैं। ये कौए महाकाल मंदिर के पास घाटी पर, घट्टिया के पानबिहार और घोंसला क्षेत्र से मिले थे। इसके पहले उज्जैन और खाचरौद से मृत मिले 3 कौओं के सैंपल भेजे गए थे। इस प्रकार तीन दिन में 7 सैंपल भोपाल भेजे गए हैं। हाई सिक्युरिटी लैब से उज्जैन को मैसेज मिला है कि वे अब और सैंपल न भेजें। जो सैंपल उज्जैन से प्राप्त हुए हैं, उन्हीं की रिपोर्ट से पता चल जाएगा कि कौओं की मौत क्यों हो रही है। एक रिपोर्ट बुधवार को जारी हो सकती है।

30 से 40 कौओं को जमीन में गाड़ा

मंगलवार को जिले में 30 से 40 कौए मृत पाए गए। इन्हें वन विभाग और पशु चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के दल ने जमीन में सुरक्षित गाड़ा। इस दरमियान सभी कर्मचारियों ने हाथों में ग्लब्स और चेहरे पर मास्क पहना था। कोविड-19 संक्रमण से बचाव के जो नियम हैं, उनका ही पालन इस प्रक्रिया में किया।

एच5एन8 एविअन इन्फ्लूएंजा वायरस मिला

डॉ. स्मृति मिश्रा ने बताया कि उज्जैन की रिपोर्ट बुधवार को आ सकती है। फिलहाल आगर और मंदसौर से भेजे कौए के सैंपल की रिपोर्ट आ गई है। रिपोर्ट में एच5एन8 एविअन इन्फ्लूएंजा वायरस मिला है। यह बर्ड फ्लू का ही एक टाइप है। इस बीमारी की मुख्य वजह तापमान का अधिक गिरना है। उज्जैन की रिपोर्ट आने पर शासन से गाइडलाइन जारी होगी कि क्या अहतियात बरतें और इसे रोकने को क्या उपाय करें।

नागदा में 7 कौए मृत मिले, प्रशासन अलर्ट

नागदा में दो स्थानों पर मरे हुए कौए मिलने से स्थानीय प्रशासन हरकत में आ गया। पशु चिकित्सा विभाग ने मौके पर पहुंचकर स्वाब, फिकल और पूरी बॉडी जांच के लिए लेबोरेटरी में भेज दी है। जानकारी के अनुसार मंगलवार शाम को ग्रेसिम उद्योग द्वारा संचालित टेम्पल गेस्ट हाउस में 5 और पुलिस कॉलोनी में 2 कौए मृत अवस्था में मिले। पशु चिकित्सा विभाग के डॉ. प्रदीप शर्मा के अनुसार वन विभाग के माध्यम से कौओं की मौत की खबर मिली है। बीमार और मृत कौओं का शव हमें जांच के लिए उपलब्ध कराया था, उसका स्वाब, फिकल और पूरी बॉडी जांच के लिए लेबोरेटरी में भेज दी गई है। रिपोर्ट आने के बाद पुष्टि हो पाएगी कि कौंओं की मौत बर्ड फ्लू से हुई या अन्य किसी वजह से। इसके लिए शासन की जो गाइडलाइन होगी उसका पालन किया जाएगा। बर्ड फ्लू हवा में फैलने वाला एक इन्लूएंजा वायरस है, जिसके संपर्क में आने से पक्षी और इंसान की मौत हो जाती है। इसके लक्षण भी सामान्य फ्लू जैसे ही होते हैं।

कुछ दिन पहले मोरों की मौत हुई थी, अब कौए मृत मिले

उन्हेल तहसील के ग्राम पासलोद में कुछ दिन पूर्व मोरों की मौत हुई थी। जिनकी जांच वन विभाग द्वारा करवाई गई थी। अब मंगलवार को उन्हेल में 12 कौए मृत मिले हैं। इससे हड़कंप मच गया है। प्रशासन ने तत्काल कौए के नमूने जांच के लिए भेजे हैं। प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि कुछ कौओं के शव श्वान उठा ले गए हैं। नगर परिषद के निकट स्थित कब्रिस्तान में दो दिन से कौओं के शव मिलने की जानकारी पर प्रशासनिक अमला मंगलवार सुबह 10 बजे मौके पर पहुंचा। पटवारी मनोहर पाटीदार एवं विश्वेश्वर शर्मा, पशु चिकित्सा विभाग एवं नगर परिषद के कर्मचारी भी पहुंचे। पशु चिकित्सक ज्योत्सना शर्मा ने मृत कौओं के सैंपल लिए हैं। सैंपल जांच के लिए पहुंचाया जाएगा। बताया जाता है क्षेत्र में कुछ दिन पूर्व पक्षियों की मौत की जानकारी इंटरनेट मीडिया पर वायरल हो रही थी। पिछले सप्ताह ग्राम पासलोद में मोरों की मौत भी हुई थी। जिनकी जांच वन विभाग के अधिकारियों द्वारा की गई है। जांच में क्या पाया गया इसकी जानकारी अभी तक नहीं दी गई है। आशंका है कि बर्ड फ्लू के कारण पक्षियों की मौत हो रही है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस