उज्जैन। महाकाल मंदिर कार्यालय में मंगलवार को ऑडिट कार्य के लिए ग्वालियर से टीम पहुंची है। दल 2007 से 2018 तक की फाइलों की ऑडिट करेगी। मंदिर प्रबंध समिति द्वारा संचालित विभिन्न प्रकल्पों में प्रतिदिन लाखों रुपए का आय व्यय होता है। कुछ समय पहले मंदिर प्रशासन ने नियमित ऑडिट की व्यवस्था की थी। स्थानीय ऑडिटर कई मामलों में आपत्ति ले चुके हैं। इसमें मंदिर कर्मचारियों के वेतन पर आपत्ति प्रमुख बिंदु है। हाल ही में नए संभागायुक्त व कलेक्टर ने पदभार ग्रहण किया है। सूत्र बताते हैं नए अफसरों ने अब तक हुए ऑडिट की समीक्षा के लिए ग्वालियर से टीम बुलाई है। मंगलवार को जैसे ही टीम मंदिर कार्यालय पहुंची, हड़कंप मच गया। विभिन्न विभागों के प्रभारी फाइल लेकर समीक्षा कराने पहुंचे। टीम कब तक उज्जैन में रहेगी, इस पर मंदिर के अधिकारी कुछ भी कहने से बच रहे हैं।

मंदिर का बजट कर रहे तैयार

बताया जाता है इस बार मंदिर का बजट तय समय पर पेश होगा। कार्यालय में बजट तैयार करने को लेकर भी कवायद शुरू हो गई है। गौरतलब है कि बीते कुछ वर्षों में मंदिर का बजट देरी से पेश हुआ था।

Posted By:

fantasy cricket
fantasy cricket