Chintaman Ganesh Ujjain: उज्जैन (नईदुनिया प्रतिनिधि)। चिंतामन गणेश मंदिर में बीते तीन सालों से चल रहा निर्माण कार्य पूरा नहीं हो पाया है। बिल्डिंग मटेरियल के रेट बढ़ जाने से ठेकेदार ने एक बार फिर काम रोक दिया है। बताया जाता है वर्तमान ठेकेदार से काम कराना निर्माण एजेंसी आरईएस की मजबूरी है। वर्तमान ठेका निरस्त कर के अगर नए ठेकेदार को काम सौंपते हैं, तो नई दर से ठेका देना पड़ेगा। इसके लिए एजेंसी के पास बजट कम है।

मंदिर समिति द्वारा चिंतामन गणेश मंदिर परिसर में 1 करोड़ 80 लाख रुपये की लागत से निर्माण व सुंदरीकरण के काम कराए जा रहे हैं। इसके अंतर्गत सभा मंडप का विस्तार, पाथवे, वीआइपी गेस्ट हाऊस, संत निवास, विवाह हेतु शेड तथा सुलभ शौचालय का निर्माण होना है। समिति ने ग्रामीण यांत्रिकी सेवा (आरईएस) को निर्माण एजेंसी नियुक्त किया है। अनुबंध के मुताबिक एजेंसी ने 22 जुलाई 2019 को निर्माण कार्य का ठेका दिया था। इसके कुछ समय बाद ही ठेकेदार ने काम भी शुरू कर दिया था। शुरुआत में सब कुछ ठीक चला, लेकिन बाद में ठेकेदार व आरईएस अधिकारियों के बीच विवाद हो गया। समझौते के बाद काम फिर शुरू हुआ, लेकिन प्लान व ड्राइंग डिजाइन में परिवर्तन तथा मंदिर समिति व निर्माण एजेंसी के अधिकारियों के बीच संवादहीनता के कारण बीच-बीच में गतिरोध उत्पन्ना्‌ होता रहा। बीच में कुछ नए काम जोड़ने से भी फंड में कमी आ गई थी। इन सब कारणों से बीते तीन सालों में काम पूरा नहीं हो पाया है।

दो गुना हुए निर्माण सामग्री के रेट

नया मामला निर्माण सामग्री के रेट से जुड़ा है। बताया जाता है बीते तीन साल में निर्माण सामग्री के रेट दो गुना से अधिक हो गए हैं। जबकि ठेकेदार को तीन साल पुराने अनुबंध के मुताबिक पुराने रेट से काम करना है। सूत्र बताते हैं ठेकेदार इसी के चलते काम नहीं कर पा रहा है। बीते कुछ दिनों से मंदिर में फिर काम बंद पड़ा है।

जल्द शुरू कराएंगे काम

मैंने कल ही ठेकेदार को फोन लगाया था। फ्लोरिंग लिए फर्शी तथा मार्बल आदि निर्माण सामग्री मंगवाने के भी निर्देश दिए हैं। बीच में ठेकेदार के साथ भी कुछ पारिवारिक परेशानियां रही है। लेकिन अब जल्द ही काम शुरू कराएंगे। - सुनील शर्मा, कार्यपालन यंत्री आरईएस

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close