मालवा-निमाड़ (नईदुनिया टीम)। अंचल में कोरोना वायरस से उपजे संकट से निपटने के लिए किए गए लॉकडाउन के दूसरे दिन गुरुवार को कहीं लोगों की लापरवाही नजर आई तो जागरूकता भी। पुलिस को सख्ती भी करना पड़ी। इसी बीच, कोरोना संक्रमण से उज्जैन में एक और मौत हुई है।

उज्जैन

एक और मौत, दुकानों पर कार्रवाईशहर के एक और व्यक्ति की गुरुवार को इंदौर में मौत हो गई। बुधवार को 65 वर्षीय महिला की मौत हो गई थी। मरीज की संक्रमण की रिपोर्ट आना बाकी है। प्रशासन ने ऋषिनगर के क्षेत्र को सील कर दिया। मृतकों के स्वजनों के नमूने लिए गए हैं। दोनों परिवारों के करीब 12 सदस्यों को आइसोलेट किया गया है। नियमों का पालन नहीं करने और कालाबाजारी की शिकायतों के बीच प्रशासन ने दौलतगंज की करीब 200 किराना दुकानों को बंद करा दिया।

बड़वानी

गांवों में काकड़ बांध रोक दिए। छूट के दौरान बड़ी संख्या में लोग घरों से बाहर निकले। कई जगह बगैर सावधानी के भीड़ देखी गई। वहीं महाराष्ट्र सीमा से सटे कई गांवों में ग्रामीणों ने जागरूकता का परिचय देते हुए काकड़ बांध गांव में आने-जाने के रास्ते रोक दिए। अब प्रशासन जरूरी सामग्री की होम डिलीवरी की व्यवस्था में जुट गया है।

मंदसौर

सभी आठ सैंपल की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। पुलिस ने लोगों को सब्जी मंडियों, धानमंडी में एकत्र नहीं होने दिया। नियमों का पालन नहीं करने वाले दुकानदारों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन द्वारा मानव संसाधन बढ़ाने के लिए कलेक्टर एवं अध्यक्ष जिला स्वास्थ्य समिति को अस्थायी नियुक्ति के अधिकार दिए हैं। इच्छुक चिकित्सक, पैरामेडिकल स्टाफ मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी से संपर्क कर आवेदन दे सकेंगे।

झाबुआ

सुबह छूट के दौरान अलग-अलग क्षेत्रों में प्रशासन ने सब्जी, फल की दुकानें लगाई। किराना सामान लेने लोगों को बाजार जाना पड़ा। 10 बजते ही पुलिस ने लोगों को घर भेजा।

रतलाम

सुबह 7 से 11 बजे तक दुकानें खुली रखने के अलावा 15 किराना दुकानों से घर पहुंच सेवा प्रारंभ करने की व्यवस्था की गई। आमजन ने अपने-अपने क्षेत्र से जुड़ी किराना दुकानों से मोबाइल पर संपर्क कर जरूरी सामग्री मंगवाई। जरूरतमंदों को भोजन उपलब्ध कराने के लिए कई दानदाता सामने आ रहे हैं।

खरगोन

सार्वजनिक स्थानों पर सैनिटाइजेशन किया गया। ग्राम ऊन में बाहर से आए एक युवक को परिवार सहित आइसोलेट किया गया है। 38 वर्षीय युवक मंगलवार रात मालेगांव (महाराष्ट्र) से यहां पहुंचा था। बड़वाह में जिन स्थानों पर इंदौर की संक्रमित महिला गई थी, वहां सैनेटाइजेशन किया गया।

संपर्क में आने वालों का स्वास्थ्य जांचा गया। सिख समाज, शिवसेना आदि संगठनों ने जरूरतमंदों को भोजन वितरित किया। सराफा एसोसिएशन ने राशन घर तक पहुंचाया। कुछ समाजजन ने गणगौर महापर्व अंतर्गत माता की बाड़ियों में पूजन कर वहीं विसर्जन करने का निर्णय लिया है।

खंडवा

जिला अस्पताल में सुबह से शाम तक करीब 600 मरीजों ने परीक्षण कराया। मरीजों के सैनिटाइजर से हाथ साफ कराए गए, वहीं कतार में दूरी बनाए रखी गई। बेवजह घूमने वालों की पिटाई के साथ पुलिस ने सख्ती बरती।

बुरहानपुर

दो दिन के पूर्ण लॉकडाउन के बाद सुबह चार घंटे की छूट के दौरान लोग सामान खरीदने उमड़ पड़े। इसे पर कलेक्टर राजेश कौल और एसपी बीएस बिरदे, सीईओ जिपं रोहन सक्सेना को मौके पर पहुंचना पड़ा। भीड़ को हटाने के लिए लाठियां तक भांजनी पड़ी। पुलिस बल ने दुकानें बंद कराईं। कलेक्टर ने आगामी आदेश तक सभी कि राना दुकानों, सब्जी मार्केट, सब्जी दुकानों को बंद करने के आदेश दिए हैं।

शाजापुर

निर्धारित समय की छूट में लोग आवश्यक सामान की खरीदी के लिए निकले। इस दौरान दूरी बनाए रखी गई। नपा द्वारा गरीब बस्तियों में भोजन के पैके ट वितरित कि ए गए। वहीं बेवजह घूमने वालों पर पुलिस ने सख्ती की।

नीमच

कलेक्टर जितेंद्र सिंह राजे ने निर्देश दिए हैं कि गली-मोहल्लों में फेरी वालों से ही सब्जी व फल खरीद सकेंगे। विधायक ओमप्रकाश सकलेचा व अनिरूद्ध माधव मारू ने अधिकारियों के साथ लॉक डाउन की स्थिति और जरूरतमंदों को लेकर आवश्यक निर्देश दिए। बुधवार को हुई बारिश के बाद फसलों की नुकसानी को लेकर भी विधायकों ने किसानों को मदद के लिए भरोसा दिलाया।

Posted By: Sandeep Chourey