उज्जैन। कलेक्टोरेट के इतिहास में बुधवार को नया अध्याय जुड़ गया। कलेक्टर शशांक मिश्र ने एक साथ पांच बाबुओं को पदावनत कर चपरासी बना दिया। यह कार्रवाई ऐसे वक्त हुई जब परिवार के लोग रक्षाबंधन की खुशियां मनाने की तैयारी में जुटे हुए हैं और पूरा देश स्वतंत्रता दिवस का जश्न मनाने की तैयारी भी कर रहा है। इससे कर्मचारियों में मायूसी है।

आमतौर पर स्वतंत्रता दिवस से एक दिन पहले कर्मचारियों को सम्मानित करने का निर्णय लिया जाता है। बुधवार को कलेक्टर मिश्र ने पांच बाबुओं को पदावनत कर चपरासी पद पर पदस्थ कर दिया है, जिनमें सहायक अध्ाीक्षक कार्यालय में पदस्थ प्रेमदास राजावत, जनरल रिकॉर्ड शाखा के महेश गिरी गोस्वामी, उन्हेल टप्पा पर पदस्थ रतनलाल मालवीय व बड़नगर तहसील में पदस्थ जगदीश जाटवा और बाबूलाल वर्मा शामिल हैं।

इन कर्मचारियों को पूर्व में चपरासी पद से पदोन्नत किया गया था। इन सभी को तय समय सीमा में कम्प्यूटर परीक्षा पास करनी थी, लेकिन वे ऐसा नहीं कर सके।