ज्योतिर्लिंग क्षरण : सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित कमेटी ने गर्भगृह का तापमान नियंत्रित रखने का दिया था सुझाव

उज्जैन। महाकाल मंदिर प्रशासन विशेषज्ञों के सुझाव पर महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग के क्षरण को रोकने के उपाय कर रहा है। रविवार को कलेक्टर को सूचना मिली की गर्भगृह में लगे एसी बंद हैं। इस पर वे तत्काल मंदिर पहुंचे ओर कर्मचारियों को फटकार लगाई। उन्होंने कहा कि किसी भी स्थिति में विशेषज्ञों द्वारा तय किए गए तापमान को नियंत्रित करना है।

सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित एक्सपर्ट कमेटी ने ज्योतिर्लिंग महाकाल का क्षरण रोकने के लिए कई सुझाव दिए हैं। उनमें से एक गर्भगृह के तापमान को नियंत्रित रखना भी है। विशेषज्ञों के अनुसार गर्भगृह का तापमान 18 से 22 डिग्री सेल्सिएस के बीच रहना चाहिए। मंदिर समिति ने एक्सपर्ट के सुझाव पर अमल करते हुए हाल ही में गर्भगृह में नया एसी सिस्टम लगाया है। रविवार को मंदिर समिति अध्यक्ष व कलेक्टर मनीषसिंह को सूचना मिली की गर्भगृह के एसी बंद हैं। इसके बाद वे तत्काल मंदिर पहुंचे ओर महाकाल धर्मशाला में तीनों शिफ्ट के गर्भगृह निरीक्षकों को तलब किया। कर्मचारियों को फटकार लगाते हुए उन्होंने एसी बंद होने का कारण पूछा। कर्मचारियों ने बताया कि आरती के समय कुछ देर के लिए एसी बंद किए जाते हैं। क्योंकि आरती के दौरान एसी चलने से दीपक की लौ प्रभावित होती है। इस पर कलेक्टर ने भस्मारती से शयन आरती तक होने वाली पांच आरती के समय कितनी देर एसी बंद रहते हैं, इसकी लिखित जानकारी देने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने कहा कि किसी भी सूरत में ज्योतिर्लिंग का क्षरण रोकने के लिए किए जा रहे उपाय प्रभावित नहीं होना चाहिए। इसकी जिम्मेदारी मंदिर से जुड़े प्रत्येक व्यक्ति की है।

Posted By:

fantasy cricket
fantasy cricket