उज्जैन (नईदुनिया प्रतिनिधि)। जिले में डेंगू बेकाबू होता जा रहा है। गुरुवार को आई जांच रिपोर्ट में 17 नए मरीज मिले हैं। बीते 14 दिन में 264 मरीज सामने आए हैं। मलेरिया विभाग के अनुसार जिले में डेंगू के 597 मरीज मिल चुके हैं। जिले में डेंगू से चार मौत भी हो चुकी है। इनमें नागदा में दो, माकड़ोन व उज्जैन में एक-एक मौत शामिल है। हालांकि मलेरिया विभाग डेंगू के कारण मौत नहीं मान रहा है। अधिकारियों का कहना है कि डेंगू का असर कम हो गया है।

मलेरिया अधिकारी डा. एसके अखंड के अनुसार निगम व मलेरिया विभाग की टीम मरीजों के घरों के आसपास लार्वा तलाश रही है, इसके अलावा दवाओं का छिड़काव किया जा रहा है। डेंगू के अब तक 597 मरीज मिल चुके हैं। हालांकि अब डेंगू का असर कम हो रहा है। गुरुवार को 17 नए मरीज सामने आए थे। डा. अखंड के अनुसार डेंगू का मच्छर सिंतबर व अक्टूबर में अधिक पनपता है। तापमान 14 डिग्री से कम होने पर मच्छरों की संख्या कम हो सकती है। हालांकि अब भी तापमान कम होने में एक माह बाकी है।

चार मौत, विभाग एक भी मानने को तैयार नहीं

डेंगू से जिले में चार मौत हो चुकी है। उज्जैन में चरक अस्पताल की लैब में पदस्थ एक महिला टेक्नीशियन की मौत हो चुकी है। वहीं नागदा में दो तथा माकड़ोन में भी एक मौत हो चुकी है। मगर मलेरिया अधिकारी डा. अखंड का कहना है कि चरक अस्पताल की सेंट्रल लैब में की गई जांच में डेंगू की पुष्टि होने पर ही मान्य किया जाता है। हालांकि चारों लोगों की जांच सेंट्रल लैब में एलिजा टेस्ट के माध्यम से नहीं की गई थी।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local