Hanuman Ashtami: उज्जैन (नईदुनिया प्रतिनिधि)। पंचांग की गणना के अनुसार पौष मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी हनुमान अष्टमी के नाम से जानी जाती है। हनुमान अष्टमी का त्यौहार मुख्य रूप से अवंतिका तीर्थ में मनाया जाता है। इस बार हनुमान अष्टमी 16 दिसंबर को सर्वार्थसिद्धि योग में मनाई जाएगी। स्कंद पुराण के अवंतिखंड में हनुमान दर्शन यात्रा के महत्व का उल्लेख मिलता है। इस दिन शहर में अनेक स्थानों से 108 हनुमान दर्शन यात्रा निकाली जाएगी।

ज्योतिषाचार्य पं.अमर डब्बावाला के अनुसार इस बार हनुमान अष्टमी पर वार, तिथि, योग, नक्षत्र का विशेष अनुक्रम बन रहा है। 16 दिसंबर को हनुमान अष्टमी शुक्रवार के दिन पूर्वाफाल्गुनी उपरांत उत्तरा फाल्गुनी नक्षत्र का संयोग सर्वार्थसिद्धि योग का निर्माण करेगा। साथ ही आयुष्मान योग भी रहेगा, जो आयु में वृद्धि करने वाला माना गया है। इस दिन हनुमानजी की आराधना आरोग्यता प्रदान करती है।

108 हनुमान दर्शन यात्रा का पारंपरिक दृष्टिकोण

तीर्थपुरी अवंतिका में मंदिरों को की कोई भी निश्चित संख्या नहीं है। विशेषतौर पर शिव व हनुमानजी के सहस्त्रों मंदिर है। एक साथ सभी मंदिरों में दर्शन पूजन करने जाना संभव नहीं है। इसलिए भक्तों ने 108 मंदिरों की एक दर्शन माला चयनित की है। हनुमान अष्टमी पर वर्षों से 108 हनुमान मंदिरों में दर्शन करने का क्रम चला आ रहा है। इस बार भी भक्त 108 हनुमान दर्शन यात्रा करेंगे। मान्यता है हनुमानजी के आशीर्वाद से बिगड़े काम बन जाते हैं तथा सुरक्षा कवच प्राप्त होता है।

ग्रहों की अनुकूलता के लिए करें हनुमानजी की साधना

भारतीय ज्योतिष शास्त्र में नवग्रहों में मंगल, शनि व राहु की अनुकूलता व शांति के लिए हनुमानजी की साधना विशेष बताई गई है। मान्यता है जो भक्त हनुमानजी की आराधना करते हैं उन्हें मंगल, शनि, राहु का वितरीत प्रभाव नहीं पड़ता है। हनुमान अष्टमी पर पाप ग्रहों की। अनुकूलता व सुरक्षा कवच प्राप्त करने के लिए हनुमानजी की आराधना करना व पाठ करना चाहिए।

यह पाठ दिलाएंगे सफलता व सिद्धि

हनुमान अष्टमी पर हनुमानजी के मंदिर में जाकर तेल,सिंदूर तथा अन्य पूजन सामग्री अर्पित करें। पश्चात केसरी नंदन की प्रसन्नता के लिए हनुमान अष्टक, हनुमान चालीसा, हनुमान स्तोत्र, हनुमान वडवानल स्तोत्र, हनुमान साठिका, हनुमान कवच का पाठ करें। श्रद्धा अनुसार यथा संख्या हनुमानजी के बीच मंत्र का जाप करने से भी लाभ प्राप्त होता है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close