उज्जैन। ज्योतिर्लिंग महाकाल मंदिर Jyotirlinga Mahakal Temple में सोमवार सुबह बड़ी संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ता hief Minister Kamal Nath मुख्यमंत्री कमलनाथ का पोस्टर लेकर भीतर घुस गए। कांग्रेसियों ने नंदी हॉल के रेंप पर तिलक प्रसाद काउंटर के समीप मुख्यमंत्री की तस्वीर पर चंदन का तिलक लगाया। इसके बाद परिसर में आकर पोस्टर के साथ फोटो खिंचवाए। मंदिर में पोस्टर बैनर लेकर प्रवेश करने पर प्रतिबंध है। लेकिन सत्ताधारी दल के आगे अफसर मौन साधे रहे।

बाद में भी कोई अधिकारी मामले में कुछ भी बोलने को राजी नहीं हुआ। बड़ी संख्या में नेताओं और कार्यकर्ताओं के मंदिर पहुंचने से श्रद्धालुओं को भी परेशानी हुई।

दरअसल सोमवार को मुख्यमंत्री कमलनाथ का जन्मदिन था। अतिउत्साह में कांग्रेस नेता महाकाल मंदिर की परंपरा के विपरीत मुख्यमंत्री के पोस्टर लेकर भीतर घुस गए। रसूखदार नेताओं के आगे अफसर व कर्मचारी कुल नहीं बोल पाए। नेताओं ने मंदिर के भीतर कमलनाथ के चित्र पर तिलक लगाया। इसके बाद पोस्टर को परिसर में लेकर घूमते रहे। इस दौरान मुख्यमंत्री के कट्टर समर्थक माने जाने वाले स्थानीय कांग्रेस नेताओं ने परिसर में पोस्टर के साथ फोटो भी खिंचवाए।

दर्शनार्थियों ने कहा- हम भी लाएंगे फोटो

सोमवार सुबह बड़ी संख्या में एक साथ कई नेता और कांग्रेस कार्यकर्ता एक साथ मंदिर पहुंचे थे। इससे श्रद्धालुओं को कतार में लंबा इंतजार करना पड़ा। वहीं सीएम पोस्टर व फोटो को लेकर दर्शनार्थियों का कहना था कि हम भी बाहर रहने वाले अपने परिजनों के जन्म दिन पर उनके फोटो लेकर मंदिर में आएंगे तथा जन्म दिन मनाएंगे।

सीएम की अपील दरकिनार

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं से अपील की थी कि कोई भी उनके जन्मदिन पर होर्डिंग्स, पोस्टर न लगाए। मगर शहर के कुछ स्थानों पर होर्डिंग्स देखे गए। साथ ही महाकाल मंदिर में भी पोस्टर लेकर जाने को लेकर कई तरह की चर्चा रही।

हमने परिसर में रखी थी तस्वीर

हम पोस्टर तस्वीर को गर्भगृह में नहीं ले गए थे। इसे परिसर में रखा गया था। श्रद्धालुओं को परेशानी जैसी कोई बात नहीं सामने आई थी। हमने सीएम का जन्मदिन कौमी एकता के रूप में मनाया।

-महेश सोनी, शहर अध्यक्ष, कांग्रेस

Posted By: Hemant Upadhyay