Mahakal Temple: उज्जैन (नईदुनिया प्रतिनिधि)। ज्योतिर्लिंग महाकाल मंदिर में करीब दो माह बाद सामान्य दर्शनार्थियों को गर्भगृह से भगवान महाकाल के दर्शन हुए। दोपहर 1.30 बजे से शाम चार बजे तक करीब ढाई घंटे में 20 हजार दर्शनार्थियों ने सुविधा से भगवान महाकाल के दर्शन किए। भगवान का जलाभिषेक कर दर्शनार्थी खुश नजर आए। प्रशासक संदीपक कुमार सोनी पूरे समय सभा मंडप में खड़े रहकर व्यवस्था संभालते रहे। बता दें कि यह व्यवस्था पूर्व में भी थी, किंतु त्योहारी सीजन होने से इस पर अस्थायी रोक लगा दी गई थी।

कुछ दिनों से महाकाल मंदिर की दर्शन व्यवस्था पर सवाल उठ रहे थे। भक्तों का आरोप था कि मंदिर समिति केवल लाभ कमाने की दृष्टि से 750 व 1500 रुपये के सशुल्क दर्शनार्थियों को ही गर्भगृह से भगवान महाकाल के दर्शन करा रही है। सामान्य दर्शनार्थियों को गणेश व कार्तिकेय मंडपम से भी भगवान महाकाल के दर्शन नहीं हो पा रहे हैं।

मामले में प्रशासक ने सहयोगियों से चर्चा की। इसके बाद सहायक प्रशासनिक अधिकारी आरके तिवारी ने पूर्व निर्धारित समय अनुसार दोपहर एक से शाम चार बजे तक गर्भगृह से भक्तों को गर्भगृह से भगवान महाकाल के दर्शन कराने की योजना बनाकर प्रशासक को प्रस्तुत किया। इसके बाद मंगलवार को सामान्य दर्शनार्थियों को गर्भगृह से दर्शन कराने की शुरुआत की गई। बताया जाता है फिलहाल यह व्यवस्था प्रायोगिक तौर पर लागू की गई है। एक सप्ताह बाद इसे स्थायी किया जाएगा।

शीघ्र दर्शन टिकट वालों को भी प्रवेश, सभी श्रेणी के दर्शनार्थी खुश

मंगलवार से लागू गर्भगृह में प्रवेश की व्यवस्था इसलिए भी खास रही कि प्रशासक संदीप कुमार सोनी ने सामान्य दर्शनार्थियों के साथ 250 रुपये के शीघ्र दर्शन टिकट वाले दर्शनार्थियों को भी गर्भगृह में प्रवेश कराया। यह व्यवस्था कारगर रही तथा सभी भक्तों को इस सुविधा का लाभ मिला। बता दें कि पूर्व मे यह व्यवस्था इस लिए भी फेल हो गई थी कि, सामान्य दर्शनार्थियों के साथ शीघ्र दर्शन टिकट तथा प्रोटोकाल वाले भक्तों को दर्शन नहीं कराए जा रहे थे। इस बार प्रशासक ने सभी भक्तों के लिए प्रवेश की व्यवस्था सुनिश्चित की है।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close