उज्जैन (नईदुनिया प्रतिनिधि)। कायथा थाना क्षेत्र के ग्राम लसुड़या बेछार गांव में शुक्रवार को अज्ञात महिला नवजात शिशु को सड़क किनारे झाड़ियों में फेंक गई। नवजात के रोने की आवाज सुनकर ग्रामीण ने डायल 100 पर फोन लगाकर सूचना दी। इसके बाद पुलिसकर्मियों ने बालक को तराना अस्पताल में भर्ती करवाया।

पुलिस ने बताया कि शुक्रवार को एक व्यक्ति कानीपुरा रोड पर लसुड़िया बेछार के समीप सड़क किनारे से गुजर रहा था। उसी दौरान झाड़ियों में किसी के रोने की आवाज आई थी।

उसने झांककर देखा तो एक नवजात शिशु जीवित अवस्था में पड़ा हुआ है। युवक ने तत्काल डायल 100 पर फोन लगाकर इसकी जानकारी दी। पुलिसकर्मियों ने मौके पर पहुंचकर बालक को तराना के अस्पताल ले जाकर भर्ती करवाया। कायथा पुलिस ने अज्ञात महिला के खिलाफ केस दर्ज किया है।

यात्रियों की जान खतरे में डालने पर बस का परमिट व फिटनेस निरस्त

उज्जैन (नईदुनिया प्रतिनिधि)। जिले की तराना तहसील में बागडिया खाल का पुल पानी में डूबा हुआ था, इसके बावजूद ड्राइवर यात्रियों से भरी बस निकाल ले गया। मामले में क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी (आरटीओ) संतोषकुमार मालवीय ने बस का फिटनेस और परमिट निरस्त कर दिया है।

जानकारी अनुसार तेज वर्षा के कारण बागड़िया खाल की पुलिया डूब गई थी। ऐसे में यहां पर बैरिकेड लगाकर रास्ता बंद कर दिया गया था। बस क्रमांक एमपी 09 एफए 1438 का चालक यहां पहुंचा तो उसने पुलिस और लोक निर्माण विभाग के कर्मचारियों से अभद्रता की। बैरिकेड हटाए और यात्रियों की जान खतरे में डाल बस को निकाल ले गया।

मामले को लेकर तराना एसडीएम ने आरटीओ संतोषकुमार मालवीय को कार्रवाई के लिए पत्र भेजा था। आरटीओ ने बस का फिटनेस और परमिट निरस्त कर दिया है। उन्होंने बताया कि बस उज्जैन-तराना-उज्जैन रूट पर चलती थी और उसका परमिट 31 अगस्त 2022 तक के लिए वैध था। इसे अब निरस्त कर दिया है। अब यदि बस सड़क पर चलती पाई गई तो वैधानिक

कार्रवाई की जाएगी। बस के मालिक समीर शाह बताए गए हैं जो तराना के नयापुरा में रहते हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close