नागदा। (नईदुनिया प्रतिनिधि)। एक युवती से एक तरफा प्रेम करने पर युवती के भाई और अन्य लोगों ने मिलकर बुधवार रात युवक की चाकू व अन्य हथियारों से हमला कर हत्या कर दी। वारदात नागदा के ग्राम हिड़ी में हुई। मृतक की चार दिन बाद शादी थी। पुलिस ने मामले में चार आरोपितों को गिरफ्तार कर हथियार बरामद कर लिए हैं। पुलिस ने गांव में बल भी तैनात किया है।

मृतक का नाम शहजाद पिता सत्तार मंसूरी (22) निवासी ग्राम हिड़ी है। वह ट्रक ड्रायवर था। उसके पिता गुना जिले में वेयरहाउस पर हम्माली करते हैं। 9 फरवरी को उसका निकाह होने वाला था तथा 11 फरवरी को बहन अफसाना की बारात जावरा के समीप ग्राम से आने वाली थी। मामले में मंडी पुलिस ने युवती के नाबालिग भाई, उसके साथी संदीप पिता मोहनलाल गारी तथा अन्य दो को गिरफ्तार कर लिया है।

संदीप के पिता शासकीय स्कूल में शिक्षक हैं। एडीशनल एसपी आकाश भूरिया ने मामले का खुलासा करते हुए बताया कि मृतक शहजाद अपने घर के सामने रहने वाली एक युवती से एक तरफा प्रेम करता था। शहजाद ने कई बार युवती के समक्ष अपने प्रेम का इजहार भी किया, लेकिन युवती ने इंकार कर दिया। युवती के परिजनों को इसकी खबर लगी तो उन्होंने भी शहजाद को समझाया। इसके बावजूद वह युवती का पीछा नहीं छोड़ रहा था।

बहाने से बुलाया और मार डाला

बुधवार रात करीब 10.30 बजे युवती के नाबालिग भाई ने शहजाद को फोन कर कहा कि उसके मोबाइल का पैटर्न लॉक खोलना है। घर के पीछे आपके खेत पर आ जाओ। शहजाद आया तो पहले से धारदार हथियार लेकर बैठे नाबालिग व उसके चचेरे भाई संदीप ने उस पर हमला कर उसे मौत के घाट उतार दिया। उसके बाद उसकी जेब से मोबाइल व पर्स भी निकालकर साथ ले गए। कुछ दूर जाकर रमेश माली के खेत में कुएं के समीप हथियार गाढ़ दिए और मोबाइल व पर्स तालाब में फेक दिए।

ऐसे हुआ पर्दाफाश

हत्या के बाद दोनों आरोपित खेत से निकल रहे थे। इस बीच वहां सिगरेट पीने आए शहजाद के चचेरे भाई आसिफ ने उन दोनों को बाहर जाते देख लिया। उसने उनसे वहां आने का कारण पूछा तो आरोपितों ने उस पर लाठी से हमला कर दिया। आसिफ ने परिजनों को बुलवा लिया।

बाद में समाज के वरिष्ठजनों ने दोनों को छोड़ दिया। उसके बाद आसिफ अपने घर लौट गया। लेकिन खेत की मोटर चोरी की शंका के चलते उसने छोटे भाई शरीफ उर्फ भूरा से कहा कि जाकर मोटर व केबल चेक करके आओ। शरीफ टार्च लेकर खेत पर पहुंचा तो वहां शहजाद लहूलुहान अवस्था में मृत पड़ा था। यह देख शरीफ ने शोर मचाया व डायल-100 पर सूचना दी। कुछ ही देर में पुलिस मौके पर पहुंच गई। घटना की जानकारी मिलने पर पुलिस को पूरा मामला समझ में आ गया।

अन्य दो भाइयों ने की आरोपितों की मदद

वारदात के बाद संदीप ने अपने भाई दिनेश को घटना की जानकारी देकर कहा कि उन्हें कपड़े बदलना है। दूसरे कपड़े लेकर गांव के बाहर आ जाओ। दिनेश पहुंचा और उन दोनों को अपनी बाइक से ग्राम नारायणा महिदपुर एक रिश्तेदार के घर छोड़कर आ गया। यहां से संदीप ने ग्राम बानंका महिदपुर से अन्य नाबालिग भाई को कार लेकर बुलवाया और उसके घर चले गए।

3 टीआई सहित टीम बनाई

घटना की सूचना मिलते ही एसएसपी सचिन अतुलकर ने गांव में उन्हेल, बिरलाग्राम, खाचरौद, महिदपुर व इंगोरिया से पुलिस बल तैनात कर दिया तथा टीम गठित कर आरोपितों को शीघ्र पकड़ने के निर्देश दिए। पुलिस ने अपने स्तर पर आरोपितों की खोजबीन की और उन्हें बानंका से दबोच लिया।

इनकी रही सराहनीय भूमिका

सीएसपी मनोज रत्नाकर, मंडी टीआई श्यामचंद शर्मा, बिरलाग्राम टीआई सुरेश सोलंकी, इंगोरिया टीआई रविंद्र बारिया, एसआई जीवन भिडोरे, मजाराजसिंह बघेल, हरिज्ञानसिंह, आरक्षक विनोद माली, नीरज पटेल, सुखेदव, यशपालसिंह सिसौदिया, गोपाल चावला, ईश्वर, सुनील बैस, दिनेश गुर्जर, प्रवीण कुशवाह, जितेंद्र चौहान, जितेंद्र राठौर, शमिष्ठा शुक्ला की सराहनीय भूमिका रहीं।

Posted By: Sandeep Chourey

fantasy cricket
fantasy cricket