उज्जैन (नईदुनिया प्रतिनिधि)। उज्जैन-फतेहाबाद 23 किलोमीटर गेज परिवर्तन का काम पूरा होने के बाद शुक्रवार को डीआरएम स्पेशल ट्रेन को 70 किलोमीटर की रफ्तार से चलाया गया। स्पेशल ट्रेन में बैठकर शुक्रवार को सांसद अनिल फिरोजिया व डीआरएम विनीत गुप्ता ने रेल मार्ग का निरीक्षण किया। मार्च 2013 में इस ट्रैक को बंद करने की घोषणा की गई थी। 23 फरवरी 2014 को इस ट्रैक पर आखिरी मीटरगेज ट्रेन चलाई गई थी। इस ट्रैक के लोकार्पण के लिए रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव आएंगे।

शुक्रवार सुबह करीब 11 बजे सांसद अनिल फिरोजिया, डीआरएम विनीत गुप्ता व रेलवे के कई अधिकारी फतेहाबाद स्टेशन पर पहुंचे थे। फतेहाबाद में नए ट्रैक का निरीक्षण करने के बाद सांसद व अधिकारियों को लेकर डीआरएम स्पेशल ट्रेन उज्जैन के लिए रवाना हुई थी। लेकोड़ा फ्लैग स्टेशन पर ट्रेन रोकी गई थी, जहां कुछ देर निरीक्षण के बाद ट्रेन चिंतामन स्टेशन पहुंची थी। स्टेशन की दीवार पर आकर्षक चित्रकारी की गई है। जहां यात्रियों की सुविधा के लिए प्रतीक्षालय, टिकट विंडो व स्टेशन प्रबंधक के कक्ष बनाए गए हैं। प्लेटफार्म 800 मीटर का बनाया गया है जहां 24 कोच की ट्रेन को खड़ा किया जा सकता है। इसके बाद ट्रेन उज्जैन पहुंची थी। ट्रेन को 70 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से चलाया गया था। अधिकारियों का कहना है कि इस ट्रैक पर 100 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से ट्रेनों का संचालन किया जाएगा।

रेल मंत्री आएंगे लोकार्पण करने

सांसद फिरोजिया के अनुसार इस ट्रैक का लोकार्पण करने के लिए जल्द ही रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव उज्जैन आ सकते हैं। कुछ दिन पूर्व दिल्ली जाकर रेल मंत्री से इस संबंध में चर्चा की गई थी। रेल मंत्रालय से कार्यक्रम जारी हो सकता है।

उज्जैन-इंदौर के बीच चलेगी मेमू ट्रेन

रेलवे ने उज्जैन व इंदौर के बीच दो मेनलाइन इलेक्ट्रिकल मल्टीपल यूनिट (मेमू) ट्रेन चलाने को लेकर मंजूरी दी है। सांसद फिरोजिया के अनुसार उज्जैन-इंदौर के बीच चार फेरों की अनुमति मांगी गई थी, फिलहाल रेलवे ने दो फेरों की अनुमति दी है।

सात साल में इस तरह चला गेज परिवर्तन का काम

- मार्च 2013 में रेलवे ने उज्जैन-फतेहाबाद मीटरगेज ट्रैक बंद करने की घोषणा की।

- 23 फरवरी 2014 को उज्जैन से फतेहाबाद के बीच आखिरी मीटरगेज चली।

- वर्ष 2017-18 के बजट में गेज परिवर्तन के लिए 104 करोड़ रुपये किए मंजूर।

- वर्ष 2018 के बजट में बजट बढ़ाकर 245 करोड़ रुपये किया। गेज परिवर्तन के साथ इलेक्ट्रिफिकेशन करने की भी मंजूरी दी।

- 22.96 किलोमीटर है ट्रैक की लंबाई।

- 4.938 हेक्टेयर भूमि की गई अधिगृहित।

- 10 करोड़ रुपये की लागत से किया गया चिंतामन स्टेशन व लेकोड़ा फ्लैग स्टेशन का निर्माण।

- 18 गांवों को मिलेगा फायदा।

एयरपोर्ट की तर्ज पर होगा स्टेशन का स्वरूप

उज्जैन रेलवे स्टेशन को एयरपोर्ट की तर्ज पर स्वरूप दिया जा रहा है। इसके अलावा स्टेशन परिसर में 12 करोड़ रुपये की लागत से तीन मंजिला भवन बनाया जा रहा है। नए साल में स्टेशन का काम पूरा हो जाएगा। शुक्रवार को सांसद फिरोजिया व डीआरएम गुप्ता ने उज्जैन स्टेशन का भी निरीक्षण किया और काम जल्द पूरे करने के निर्देश दिए।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local