उज्जैन (नईदुनिया प्रतिनिधि)। शहर और अंचल में रविवार को सावन की झड़ी लगी। इससे मौसम सुहाना हुआ और अच्छी बरसात से मोक्षदायिनी शिप्रा नदी में उफान आने पर रामघाट का छोटा पुल और कई मंदिर पानी में दिनभर डूबे रहे। नालियां चौक होने से मुख्य मार्गों पर पानी भराया। इससे कुछ समय के लिए यातायात भी बाधित हुआ। रविवार को 24 घंटों में 41 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई। इससे दिन का अधिकतम तापमान 7 डिग्री फिसलकर 26 डिग्री पहुंच गया है। लोगों ने उमस और गर्मी से राहत पाई। मौसम विभाग ने सोमवार को भारी वर्षा होने की चेतावनी जारी की है।

मौसम विभाग के अनुसार शु्‌क्रवार को 9 मिलीमीटर, शनिवार को 16 मिलीमीटर वर्षा हुई थी। रविवार को हवाओं ने जोर पकड़ा तो 41 मिलीमीटर वर्षा हुई। लगातार वर्षा के कारण उमस से परेशान लोगों ने बड़ी राहत पाई। किसान, व्यापारियों के चेहरे भी खिल उठे। नदी में आए उफान को देखने के लिए बड़ी संख्या में लोग रामघाट, त्रिवेणी घाट, मंगलनाथ घाट, कालियादेह महल पहुंचे और मोबाइल कैमरे से खूबसूरत द्श्यों की तस्वीरें लीं। रविवार छुट्टी का दिन होने और वर्षा की वजह से दिनभर खुली दुकानें भी शाम को जल्दी बंद हो गईं।

इंदौर की वर्षा ने गंभीर बांध को 75 फीसद भरा

इंदौर की भारी वर्षा ने उज्जैन के गंभीर बांध को 75 फीसद भर दिया है। 2250 मिलियन क्यूबिक फीट (एमसीएफटी) क्षमता वाले बांध में शनिवार को 203 एमसीएफटी पानी आया। ये पानी इंदौर के यशवंत सागर बांध का एक गेट पांच घंटे खुला रखने से गंभीर नदी के रास्ते आया। लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के अनुसार गंभीर बांध में अब 1715 एमसीएफटी पानी है। इतना कि दैनिक जरूरत 8 एमसीएफटी के अनुसार अगले 200 दिन शहर में आसानी से प्रदाय कर सकते हैं।

अब तक 479 मिमी वर्षा हुई

उज्जैन में वर्षाकाल 15 जून से 30 सितंबर तक माना गया है। उज्जैन की औसत वर्षा 906 मिलीमीटर है। अब तक 479 मिलीमीटर वर्षा हो चुकी है। अभी वर्षाकाल खत्म होने में डेढ़ माह से अधिक वक्त शेष है। मौसम विभाग ने इस वर्ष अच्छी वर्षा की उम्मीद जताई है।

गत वर्ष 24 सितंबर को भराया था गंभीर बांध

गत वर्ष 24 सितंबर को गंभीर बांध लबालब भराया था। इसके पहले साल 2020 में बांध 22 अगस्त को भराया था। वर्तमान में जिस तरह की वर्षा का अनुमान मौसम विभाग ने इंदौर, देवास, उज्जैन में होने का लगाया है, उससे संभव है कि इसी माह बांध अपनी पूर्ण क्षमता से भरा जाएगा।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close