नागदा जं.। लोन दिलाने के नाम पर एक फर्जी कंपनी ने लोगों से फाइल चार्ज वसूला और फरार हो गई। वहां काम करने वाले कर्मचारियों का वेतन और जिस भवन में कार्यालय संचालित हो रहा था, उसका किराया भी नहीं चुकाया। लगभग 25-30 किसानों ने लोन के चक्कर में फ़ाइल चार्ज भर दिया था। मामले की अभी तक पुलिस में किसी ने शिकायत नहीं की।

इंगोरिया ब्रिज के समीप आनंद यादव नामक व्यक्ति ने दो माह पूर्व किराए का एक कमरा लेकर आनंद एसोसिएट्स कंपनी के नाम का बोर्ड लगाया। कार्यालय में 5 कुर्सी टेंट हाऊस की व एक टेबल रखकर कार्यालय खोलकर कर्मचारियों की आवश्यकता का बोर्ड लगाया। एक छात्र व एक घरेलू महिला को पांच हजार रुपये प्रतिमाह में काम पर रख लिया। इन्हीं से स्लम बस्ती व ग्रामीण क्षेत्रों में लोन दिलाने के पेम्पलेट बंटवाकर कार्यालय में बैठा दिया। दोनों को निर्देश दिए कि कोई भी उपभोक्ता आता है तो उससे एक लाख रुपए लोन के नाम पर साढ़े तीन हजार, 5 लाख के साढ़े 6 हजार व 10 लाख पर 8 हजार रुपये फाइल चार्ज जमा कर आधार कार्ड, पेनकार्ड, बिजली का बिल, प्रापर्टी के दस्तावेज जमा कराएं। डेढ़ माह में लगभग 25 से 30 ग्रामीण क्षेत्र के किसानों ने लोन के लालच में फाइल चार्ज कर दिया। चार्ज जमा होने की सूचना मिलने के बाद आनंद यादव रविवार के दिन आता और कर्मचारियों से जमा की गई राशि लेकर चला जाता। उसने कर्मचारियों को इंदौर निवासी बताया था। जबकि फेसबुक सर्च में वह होशंगाबाद निवासी आ रहा था। एक माह पूर्व वह फरार हो गया। दोनों कर्मचारियों व कार्यालय का किराया भी नहीं दिया है। उसने जो बोर्ड पर फोन नंबर अंकित था, वह भी पिछले 20 दिनों से बंद आ रहा है। वहां कार्य करने वाले छात्र ने पुष्टि की है कि लगभग 15-20 लोगों ने फाइल चार्ज जमा कराया है। संचालक फरार हो गया है। हालांकि मामले की शिकायत पुलिस में अभी तक किसी ने नहीं की है। कुछ दिन पूर्व ही व्यापारियों को सस्ते भाव में किराने का सामान का लालच देकर मंदसौर का एक व्यक्ति शहर में लाखों रुपये का व्यापारियों को चूना लगाकर फरार हो गया। अभी भी कई फर्जी कंपनियां शहर में चल रही है। प्रशासन व पुलिस द्वारा इन पर अंकुश नहीं लगाया तो और कई भोलेभाले इनकी चपेट में आ सकते हैं।

निजी फायनेंस कंपनियां कार्यालय खोलने के पूर्व एसडीएम व पुलिस कार्यालय में जानकारी देना होती है। हाल ही में लोगों के पैसे लेकर भागे व्यक्ति के खिलाफ शिकायत नहीं आई है। बिना सूचना के जो कंपनियां चल रही है, उन सभी की जांच कराई जाएगी।

-श्यामचंद्र शर्मा, टीआइ, मंडी थाना नागदा

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local