उज्जैन (नईदुनिया प्रतिनिधि)। झारड़ा थाना क्षेत्र के ग्राम नरेंद्रखेड़ा में पिता-पुत्र की हत्या करने वाले आरोपित को मंगलवार को कोर्ट ने दोषी करार दिया है। कोर्ट ने उसे दोहरे आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। इसके अलावा 20 हजार रुपये जुर्माना भी लगाया है। उप-संचालक अभियोजन डा. साकेत व्यास ने बताया कि सरदार सिंह निवासी नरेंद्रखेड़ा झारड़ा ने 10 दिसंबर 2019 को झारड़ा थाने पर बताया था कि वह नरेंद्रखेड़ा में अपनी जमीन पर मकान बनवाकर परिवार सहित रहता है। रात को वह परिवार सहित खाना खाकर सो गया था। देर रात करीब ढाई बजे उसकी भाभी मुन्नीबाई के चिल्लाने की आवाज सुनकर बाहर निकला तो उसके पिता नागूसिंह व भाई विक्रम के गले से खून निकल रहा था और दोनों मृत अवस्था में पड़े थे।

उसी दौरान गांव का ही निवासी भैरूसिंह निवासी नरेंद्रखेड़ा रोड बमनई वहां से भागते हुए नजर आ रहा था। पुरानी रंजिश को लेकर भैरूसिंह ने उसके पिता व भाई की हत्या कर दी थी। मंगलवार को कोर्ट ने आरोपित को दोहरे हत्याकांड का दोषी करार देते हुए उसे दोहरे आजीवन करावास की सजा सुनाई है। इसके अलावा 20 हजार रुपये का अर्थदंड भी लगाया है। मामले में पैरवी विशेष लोक अभियोजक अजय वर्मा ने पैरवी की।

विक्रम नगर रेलवे स्टेशन पर ठेकेदार व मजदूरों में विवाद

उज्जैन। विक्रम नगर रेलवे स्टेशन पर मंगलवार सुबह ठेकेदार व स्थानीय मजदूरों के बीच विवाद हो गया। ठेकेदार भोपाल से कुछ मजदूरों को रैक खाली करवाने के लिए लेकर आया था, जिसका स्थानीय मजदूरों ने विरोध कर दिया। जिसको देखते हुए आरपीएफ, जीआरपी तथा नागझिरी पुलिस मौके पर पहुंची थी।

पुलिस ने बताया कि विक्रम नगर रेलवे स्टेशन पर आने वाली मालगाड़ियों से सामान खाली करवाने का ठेका अमित खरे के पास है। उसका स्थानीय मजदूरों से कुछ विवाद हो गया था। जिसके बाद वह मंगलवार को भोपाल से कुछ मजदूर लेकर आ गया और खाद की रैक खाली करवाने लगा था। जिसका स्थानीय मजदूरों ने विरोध कर दिया था। उनका कहना था कि बाहरी कर्मचारी लाने के कारण उन्हें नुकसान हो रहा है। जिस पर एसडीएम जगदीश मेहरा व पुलिसकर्मियों ने समझाइश देकर मामला शांत करवाया।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close