उज्जैन (नईदुनिया प्रतिनिधि)। आने वाले दिनों में ज्योतिर्लिंग महाकाल, मंगलनाथ, कालभैरव, चिंतामन जैसे प्रमुख मंदिरों की व्यवस्थाएं केंद्रीकृत हो सकती हैं। जनप्रतिनिधियों की एक समिति इन प्रमुख मंदिरों में श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए किए जाने वाले इंतजाम, दर्शन, पूजन आदि की व्यवस्थाओं पर नजर रखेगी। बुधवार को हरसिद्धि धर्मशाला में जनअभियान परिषद् के उपाध्यक्ष विभाष उपाध्याय की अध्यक्षता में इसका रोड मैप तैयार किया गया।

बीते कुछ सालों में उज्जैन के धार्मिक पर्यटन को पंख लगे हैं। देश विदेश से सैकड़ों श्रद्धालु धर्मधानी में तीर्थाटन के लिए आने लगे हैं। महाकाल के साथ मंगलनाथ, कालभैरव, चिंतामन गणेश, हरसिद्धि, सिद्धवट व अंगारेश्वर महादेव मंदिर में सैंकड़ों भक्त दर्शन के लिए आते हैं। मंगलनाथ व अंगारेश्वर महादेव मंदिर में भातपूजा करने आने वाले श्रद्धालुओं की संख्या भी तेजी से बड़ रही है। बताया जाता है प्रदेश सरकार की योजना दर्शनार्थियों को दो चार दिन इंदौर व उज्जैन में रोकने की है। इसके लिए कार्य योजना बनाई जा रही है। इसके लिए सबसे पहले प्रमुख मंदिर तथा तीर्थ क्षेत्र की व्यवस्थाओं में सुधार की योजना बनाई जा रही है। सरकार की योजना है कि श्रद्धालुओं को प्रत्येक मंदिर में कम समय में सुविधा से भगवान के दर्शन हो। मंदिरों में पट खुलने व बंद होने के लिए निर्धारित समय का पालन हो। भक्तों को गर्भगृह में प्रवेश की व्यवस्था का कठोरता से पालन कराया जाए। जिन मंदिर तथा तीर्थों में दर्शन पूजन के लिए शुल्क निर्धारित है, वहां श्रद्धालुओं को शासकीय शुल्क पर पादर्शी व्यवस्था के साथ पूजन कराया जाए। जब यह व्यवस्थाएं दुरुस्त होंगी तो बाहर से आने वाले यात्री शहर में रुकर दर्शन व पूजन पाठ कराएंगे। बैठक में महाकाल मंदिर प्रशासक गणेश कुमार धाकड़, जगदीश अग्रवाल, इकबालसिंह गांधी, नवीन आर्य आदि मौजूद थे।

व्यवस्था में सुधार होगा तो भक्त प्रसन्ना्‌ होंगे

अवंतिकापुरी में मोक्षदायिनी शिप्रा, ज्योतिर्लिंग महाकाल, शक्तिपीठ हरसिद्धि, अष्ट महाभैरव, षड्विनायक, सप्त सागर मौजूद हैं। धर्म, अध्यात्म की दृष्टि से यह नगरी महनीय है। जनप्रतिनिधियों की समिति धर्मस्थलों की व्यवस्थाओं में सुधार के बिंदु तैयार कर रही है। बाहर से आने वाले दर्शनार्थियों को सुगम दर्शन, सुरक्षित वातावरण व पारदर्शी अर्थव्यवस्था मिलेगी, तो वे यहां रुकेंगे। इसका लाभ शहर, प्रदेश व देश को होगा।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local