उज्जैन। कोरोना संक्रमण से बचाव को लेकर शनिवार से टीकाकरण की शुरुआत की जा रही है। पहले चरण में स्वास्थ्यकर्मियों को टीके लगाए जाना है। शुक्रवार को 5 सेंटरों पर जिन हितग्राहियों को टीके लगाए जाना है उन्हें मोबाइल पर समय, दिनांक व स्थान का मैसेज भेजा जाएगा। उज्जैन में बीएससी नर्सिंग कॉलेज व आरडी गार्डी मेडिकल कॉलेज में टीकाकरण होगा। नर्सिंग कॉलेज के डॉक्टरों व हितग्राहियों से पीएम मोदी सीधे बात कर सकते हैं। इसके लिए वीडियो कॉन्फ्रेंस की व्यवस्था की जा रही है।

15 हजार वायल आए, एक वायल से लगेंगे 10 लोगों को टीके

सीएमएचओ डॉ. महावीर खंडेलवाल के अनुसार जिले में पहले चरण के टीके के लिए 15 हजार कोरोना टीके की वायल आई है। एक वायल 5 एमएल की है तथा 10 लोगों को एक वायल से टीका लगाया जाएगा। सेंटर पर 10 लोगों के एकत्र होने के बाद ही वायल को खोला जाएगा। अधिकारियों का कहना है कि एक सप्ताह में 4 दिन टीकाकरण किया जाएगा। करीब एक माह में पहले चरण का टीकाकरण कार्य खत्म कर लिया जाएगा।

पीएम का कार्यक्रम देख सकेंगे हितग्राही

अधिकारियों का कहना है कि उज्जैन में बीएससी नर्सिंग कॉलेज में होने वाले टीकाकरण के लिए विशेष तैयारियां की जा रही है। पीएम नरेंद्र मोदी के कार्यक्रम को डॉक्टरों व हितग्राही देख सकेंगे। इसके लिए यहां व्यवस्था की जा रही है। अधिकारियों का कहना है कि उज्जैन में नर्सिंग कॉलेज के अलावा आरडी गार्डी मेडिकल कॉलेज, खाचरौद, महिदपुर व नागदा में भी सेंटर बनाए गए हैं। सभी सेंटरों पर 100-100 लोगों को टीके लगाए जाना है। शुक्रवार से सभी को मैसेज भेजे जाएंगे।

पुलिस सुरक्षा में रखे टीके

कोरोना वैक्सीन को 2 से 8 डिग्री पर स्टोर किया गया है। जिला टीकाकरण कार्यालय पर इनकी सुरक्षा के लिए पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है। यहां 24 घंटे पुलिसकर्मी तैनात हैं। अधिकारियों का कहना है कि शुक्रवार को ही टीके वितरित किए जाएंगे।

28 दिन बाद लगेगा दूसरा टीका

सीएमएचओ डॉ. महावीर खंडेलवाल का कहना है कि पहले चरण में स्वास्थ्यकर्मियों को टीके लगाए जाएंगे। कोरोना वैक्सीन पूरी तरह सुरक्षित है। बगैर किसी घबराहट के इसे लगवाना चाहिए। वैक्सीन लगने के 10 से 12 घंटे बाद एंटीबॉडी बनने की प्रक्रिया शुरू हो जाती है। 28 दिन बाद दूसरा टीका लगाने के बाद एंटी बॉडी तेजी से बनने लगते हैं। जिन लोगों को कैंसर, मधुमेह या अन्य गंभीर बीमारी है वे भी टीका लगवा सकते हैं। कोरोना वैक्सीन के कोई बड़े साइड इफेक्ट नहीं है। वैक्सीन लगवाने के बाद भी मास्क, सैनिटाइजर व शारीरिक दूरी का पालन करना जरूरी होगा।

इन बातों का रखें ध्यान

- खाली पेट टीका नहीं लगवाएं।

- कोई बीमारी है तो उसके बारे में टीकाकरण से पूर्व जानकारी दें।

- टीकाकरण करवाने के बाद आधे घंटे टीकारण केंद्र पर ही रहें।

- टीका लगवाने के बाद अनावश्यक बातें ना सोचें।

- यदि कोई परेशानी होती है तो डॉक्टर से तत्काल सलाह लें।

जिला टीकाकरण अधिकारी से सीधी बात

वैक्सीन कितने फीसद सुरक्षित रहेगी

- वैक्सीन 80 से 90 फीसद सुरक्षित रहेगी। इसके अभी तक कोई बड़े साइड इफेक्ट नहीं आए हैं। इसका टेस्ट खराब होता तो सरकार इसे लांच ही क्यों करती।

वैक्सीन लगाने के बाद क्या प्रतिक्रिया करेगी

- शरीर में वैक्सीन जाने के बाद 14 से 28 दिन में एंटीबॉडी बनना शुरू हो जाती है। 28 दिन बाद दूसरा डोज लगाया जाएगा। यह कितने दिन तक प्रभावी रहेगी यह बाद में पता चलेगा, क्योंकि बीमारी आए ही लगभग एक साल हुआ है। कितने दिन तक यह उपयोगी रहेगी यह समय गुजरने के बाद पता चलेगा।

लोगों में टीके को लेकर कई भ्रांतियां हैं

लोगों को समझना चाहिए कि सरकार ने अगर कोई वैक्सीन लगाने की अनुमति दी है तो उसकी पूरी तरह जांच व परीक्षण प्रक्रिया से गुजारा गया होगा। बगैर परीक्षण किए कोई भी वैक्सीन लांच नहीं की जाती है। लोगों की भ्रांतियां दूरी करने के लिए मैं स्वंय शनिवार को सबसे पहले टीका लगवाउंगा। वैक्सीन पूरी तरह सुरक्षित है लोग इसे निश्चिंत होकर लगवा सकते है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस