उज्जैन (नईदुनिया प्रतिनिधि)। कोरोना संक्रमण से बचाव को लेकर जिले में टीकाकरण की शुरुआत शनिवार से हुई। सबसे पहला टीका जिला अस्पताल के सफाई सुपरवाइजर 61 वर्षीय कैलाश सिसोदिया को लगाया गया। कैलाश सुबह से ही टीका लगाने को लेकर उत्साहित थे। बीसएसी नर्सिंग कॉलेज में बनाए गए सेंटर पर टीकाकरण कार्यक्रम सुबह साढ़े दस बजे के बजाए सवा ग्यारह बजे शुरू हुआ। नर्स मनीषा ठाकुर ने कैलाश को पहला टीका लगाया। सेंटर पर उत्सव सा माहौल था। इसके बाद सीएमएचओ डॉ. महावीर खंडेलवाल और तीसरे नंबर पर सिविल सर्जन डॉ. पीएन वर्मा को टीका लगाया गया।

टीकाकरण कार्यक्रम की शुरुआत के लिए प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव, सांसद अनिल फिरोजिया, विधायक पारस जैन कलेक्टर आशीष सिंह, एसपी सत्येंद्र कुमार शुक्ला बीएससी नर्सिंग कॉलेज पहुंचे थे। तय समय से पौन घंटा देरी से कार्यक्रम शुरू हुआ। इसके पहले पीएम नरेंद्र मोदी के भाषण का लाइव प्रसारण किया गया। बीएससी नर्सिंग कॉलेज के अलावा आरडी गार्डी मेडिकल कॉलेज में भी वैक्सीनेशन तय समय से एक घंटा देरी से सुबह साढ़े बजे शुरू किया गया। यहां कोरोना के नोडल अधिकारी डॉ सुधाकर वैध को टीका लगाया गया।

40 साल से नौकरी कर रहे कैलाश

जिला अस्पताल के सफाई सुपरवाइजर कैलाश सिसोदिया को सुबह सवा ग्यारह बजे बीएससी नर्संगि कॉलेज में सबसे पहला टीका लगाया गया। कैलाश का कहना है कि शुक्रवार रात पौने ग्यारह बजे उन्हें टीकाकरण को लेकर मैसेज मिला था। सुबह करीब 10 बजे कॉल सेंटर से फोन भी आया था। नर्सिंग कॉलेज पहुंचने पर ही उन्हें पता लगा कि सबसे पहला टीका उन्हें लगाया जाएगा। इस पर वह काफी खुश थे। टीकाकरण को लेकर किसी प्रकार के भय या रिएक्शन होने के सवाल पर सिसोदिया का कहना है कि उनकी जिंदगी जिला अस्पताल में काम करते हुए गुजर गई। वह वर्ष 1980 से अस्पताल में काम कर रहे हैं। उसे किसी प्रकार का कोई नहीं डर नहीं है।

टीका लगवाने के लिए उतारी शर्ट

दूसरा टीका सीएमएचओ डॉ. महावीर खंडेलवाल और तीसरा सिविल सर्जन पीएन वर्मा को लगाया गया। दोनों अधिकारियों को टीका लगवाने के लिए अपनी शर्ट उतारना पड़ी। दरअसल दोनों अधिकारी फुल आस्तीन की शर्ट पहनकर आए थे। टीकाकरण के लिए दोनों से शर्ट की आस्तीन ऊपर नहीं हो रही थी। इस वजह से दोनों अधिकारियों ने शर्ट उतारकर टीका लगवाया।

पांच सेंटरों पर रोजाना लगेंगे 500 स्वास्थ्यकर्मियों को टीके

जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ केसी परमार ने बताया कि उज्जैन जिले में 5 सेंटरों पर कोरोना का टीका लगाए जा रहे हैं। शहरी क्षेत्र में बीएससी नर्संगि कॉलेज, आरडी गार्डी मेडिकल कॉलेज, खाचरौद, नागदा तथा महिदपुर में स्वास्थ्य कर्मचारियों को टीके लगाए जा रहे हैं। रोजाना इन सभी सेंटरों पर सौ- सौ लोगों को टीके लगाए जाएंगे। कुल 500 कर्मचारियों को रोजाना वैक्सीन लगाई जाना है। एक सप्ताह में चार दिन टीकाकरण कार्यक्रम चलेगा। मंगलवार व शुक्रवार को कोरोना नहीं होगा। इन दोनों दिनों में बच्चों को टीके लगाने का कार्यक्रम रहता है। इस वजह से कोरोना के टीके नहीं लगाए जाएंगे। रविवार को अवकाश होने के कारण टीकाकरण कार्यक्रम बंद रहेगा।

कोविन एप में नहीं दर्ज हो सकी जानकारी

नेटवर्क खराब होने के कारण टीका लगवाने के लिए आए हितग्राहियों की जानकारी कोविन एप में दर्ज नहीं की जा सकी। अधिकारियों ने रजिस्टर में ही हितग्राहियों के नाम पते व आधार नंबर लिखने को कहा और इसके बाद हितग्राहियों को टीके लगाए गए।

दिनभर में 5 सेंटरों पर लगे 337 टीके

जिले में टीकाकरण के पहले दिन शाम 4 बजे तक 337 लोगों को टीके लगाए गए थे। सीएमएचओ डॉ. महावीर खंडेलवाल का कहना है कि पहले दिन देर से मैसेज भेजे गए थे। कई लोगों ने मैसेज नहीं देखे, कुछ गर्भवती व फीडिंग मदर को भी मैसेज चले गए हैं। इन्हें टीका नहीं लगाना है। कुछ लागों के नाम की स्पेलिंग में मिस्टेक होने के कारण मैसेज नहीं पहुंचे है। इस कारण 500 लोगों में से 337 लोगों को टीका लगाया गया हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags