- इंगोरिया थाना क्षेत्र से एक और टैंकर जब्त

नागदा जं.। एसिड बहाने के आरोप में मानपुर पुलिस द्वारा मुख्य आरोपित अरुण नायर से पूछताछ में कई राज खुल रहे हैं। चार टैंकर नागदा से जब्त करने के बाद मानपुर पुलिस ने गुरुवार को इंगोरिया से एक टैंकर और जब्त किया है। पूछताछ में पता चला कि नागदा के उद्योगों से अन्य उत्पादन गुजरात व महाराष्ट्र ले जाकर वहां के उद्योगों से जहरीला एसिड लाकर शहर व अन्य शहरों में बहाया जा रहा था। पुलिस उन चार एसिड माफियाओं की तलाश में भी जुटी हुई है।

मानपुर पुलिस को पूछताछ में नायर ने शहर के चार एसिड माफियाओं के नाम बताए हैं। पुलिस उनकी तलाश में जुटी हुई है। नायर की निशानदेही पर मंगलवार की रात को रूपेटा स्थित एक पेट्रोल पंप से चार टैंकर जब्त किए थे। गुरुवार को इंगोरिया थाना क्षेत्र की एक धर्मशाला में खड़े टैंकर को जब्त किया है। पुलिस के अनुसार नागदा के कुछ ट्रांसपोर्टरों के टैंकरों के माध्यम से शहर के उद्योगों में होने वाले कास्टिक व अन्य उत्पादनों को महाराष्ट्र, गुजरात, मेघनगर, राजस्थान के उद्योगों में ले जाते थे। वहां से जहरीला एसिड भरकर शहर व अन्य क्षेत्रों में बहाते थे। कार्रवाई के बाद अन्य एसिड माफियाओं में हड़कंप मचा हुआ है। आरोपित नायर की रिमांड अवधि शुक्रवार को समाप्त हो रही है।

गरीबों को मिलने वाले राशन में कालाबाजारी

उन्हेल स्टेशन। ग्राम लेकोड़ा आंजना में उचित मूल्य की दुकान पर गरीबों को दिए जाने वाले राशन की कालाबाजारी की जा रही है। जरूरतमंद परिवारों को राशन नहीं मिल पा रहा है। ग्राम प्रधान संजय पटेल द्वारा मामले की शिकायत भी की गई है।

दुकान संचालक द्वारा हितग्राहियों को केरोसिन, नमक, शकर, दाल आदि से वंचित किया जा रहा है। इन सब सामग्री की कालाबाजारी की जा रही है। कोरोना काल में शासन गरीबों को राहत दे रहा है, लेकिन दुकान संचालक गरीबों के हक को मार रहे हैं। दुकान की गतिविधियों की शिकायत सीएम हेल्पलाइन पर भी की गई, लेकिन जांच में लीपापोती कर दुकान संचालक को अधिकारियों द्वारा बचा लिया जाता है। दुकान संचालक राजेश गगरानी ने इस बारे में जानकारी देने एवं चर्चा करने से मना कर दिया।

पंकज पिता फतेसिंह नामक हितग्राही ने बताया दुकान संचालक द्वारा पात्रता पर्ची से राशन व अन्य सामान कम दिया जाता है। अगली बार लेने का बोलकर रवाना कर दिया जाता है। सीएम हेल्पलाइन पर शिकायत करने पर दुकान संचालक बुलाकर राशन देकर शिकायत को रफा दफा करवा देता है। राजेशनाथ पंवार ने बताया राशन की दुकान पर एक महीने का ही अनाज दिया जा रहा है। ग्रामीणों को 25 किलो राशन दिया जा रहा है। केरोसिन का मूल्य नहीं बताया जाता है। मुझे पात्रता के अनुसार 30 किलो गेहूं के स्थान पर 15 किलो गेहूं दिए गए। ग्राम प्रधान संजय पटेल ने बताया कि दो महीने के स्थान पर एक महीने का राशन पात्रता पर्ची से कम दिया जा रहा है। लंबे समय से शिकायत आ रही है। जांच कमेटी गठित कर जांच की जाए।

इनका कहना है

आपके माध्यम से मामला संज्ञान में आया है। टीम भेजकर जांच कराएंगे, गड़बड़ी मिलने पर कार्रवाई की जाएगी।

-मोहनलाल मारू, जिला खाद्य आपूर्ति अधिकारी उज्जैन

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags