तैयारीः 2490 रुपये प्रति बस महीने के हिसाब से किराए पर देंगे सिटी बस

उज्जैन (नईदुनिया प्रतिनिधि)। लगभग सवा साल से आफ रोड सिटी बसों को आन रोड कराने के लिए नगर निगम की उज्जैन सिटी ट्रांसपोर्ट सर्विसेज लिमिटेड (यूसीटीएसएल) कंपनी ने प्रक्रिया शुरू कर दी है। एक तरफ डीजल चलित 25 बसों की मरम्मत के लिए पटेल मोटर्स से अनुमानित खर्च का ब्योरा मांगा गया है। दूसरी तरफ इंदौर के विनायक टूर एंड ट्रेवल्स को 2490 रुपये महीना प्रति बस किराए पर चलाने का निविदा प्रस्ताव बोर्ड को भेज दिया गया है। सबकुछ ठीक रहा तो 15 अगस्त के बाद संभवतः बसों का संचालन शुरू हो सकता है।

मालूम हो कि केंद्र सरकार से सौगात के रूप में मिली सिटी बसों का संचालन 22 मार्च 2020 से शहर और उपनगरीय क्षेत्र में बंद है। वजह, किराया न चुकाने पर पुराने बस आपरेटर अर्थ कनेक्ट कंपनी से बसे वापस छीन लेना, मेंटेनेंस के अभाव में सभी 89 बसें खराब हो जाना और दोबारा बसों को चलाने के लिए योग्य आपरेटर नहीं मिलना रही। सवा साल में पांचवीं बार निविदा निकालने पर पिछले माह सिर्फ एक, विनायक टूर एंड ट्रेवल्स ने 2490 रुपये महीना किराए पर बस चलाने का प्रस्ताव दिया, जिसे स्वीकृति के लिए कंपनी ने यूसीटीएसएल बोर्ड के समक्ष भेज दिया है। साथ ही कबाडत हो चुकी बसों को सुधरवाने के लिए पटेल मोटर्स के इंजीनियर को बुलवाकर बसों को दिखवाया और मरम्मत पर होने वाले अनुमानित खर्च का ब्योरा मांगा। खर्च का ब्योरा मिलते ही इसे प्रस्ताव बनाकर बोर्ड की बैठक में स्वीकृति के लिए रखा जाएगा। कहा गया है कि अगर सब कुछ रहा तो 15 अगस्त के बाद से बसों का संचालन शहरी क्षेत्र और उपनगरीय क्षेत्र में शुरू हो जाएगा। बोर्ड की बैठक संभागायुक्त सह नगर निगम प्रशासन से तारीख मिलने पर होने की कवायद है।

बसों की मरम्मत पर 50 लाख खर्च होने का अनुमान

यूसीटीएसएल की रिपोर्ट के अनुसार कंपनी के पास 89 बसें हैं, जिनमें से 10 साल पहले खरीदी 39 सीएनजी चलित बसें अब चलने योग्य नहीं रही हैं। इन्हें कंडम घोषित करने को शासन को पत्र भेजा जा चुका है। साल 2013 में खरीदी डीजल चलित 50 बसे सवा से आफ रोड होने से मरम्मत मांग रही हैं। मरम्मत का खर्चा 50 लाख रुपये के आसपास होना संभावित है। आपरेटर तय होने पर ही बसों की मरम्मत कराई जाएगी, इस सोच के साथ अब तक बसों को ठीक नहीं कराया गया। इस बार विनायक का निविदा प्रस्ताव स्वीकृत होने की संभावना है। क्योंकि इस बार विनायक ने किराया प्रस्ताव 1851 की बजाय 2490 रुपये का दिया है। यह भी याद रहे कि बीते एक साल में 50 में से 25 बसों को चलवाने के लिए कंपनी ने पांच मर्तबा निविदा निकाल चुकी है। पहली और दूसरी बार निकाली निविदा में किसी भी आपरेटर ने रुचि नहीं दिखाई थी।

इन मार्गों पर चलना है बसें

देवासगेट से नानाखेड़ा, छत्रीचौक से अभिलाषा कालोनी, तपोभूमि से कालियादेह महल, इंजीनियरिंग कॉलेज से आरडी गार्डी कालेज, उज्जैन से आगर, उज्जैन से शाजापुर, उज्जैन से फतेहाबाद, उज्जैन से तराना, उज्जैन से झारड़ा, उज्जैन से बड़नगर, उज्जैन से महिदपुर, उज्जैन से आलोट।

यह भी जानिए

-अर्थ कनेक्ट कंपनी पर निगम के 1.56 करोड़ रुपये बस किराये के बकाया है। ये पैसा वसूलने के लिए निगम कई नोटिस भेज चुका। सालभर से कानूनी कार्रवाई करने की बात भी कह रहा। पर न पैसा जमा हुआ और ना कानूनी कार्रवाई।

-यूसीटीएसएल ने अर्थ कनेक्ट कंपनी की अर्नेस्ट मनी 58 लाख रुपये राजसात कर रखी है।

-31 सीएनजी बसों का साल 2010 से और 31 डीजल बसों का साल 2017 से स्पेयर टैक्स 2 करोड़ रुपये बकाया है। इस टैक्स की माफी के लिए निगम, परिवहन विभाग और नगरीय प्रशासन विभाग को पत्र भेज चुका है।

-यूसीटीएसएल पर सीएनजी गैस के 40 लाख रुपये बकाया है।

- दो साल पहले कुछ महीने भाजपा नेता के रिश्तेदार दिलराज गांधी ने शहरी क्षेत्र में सिटी बसों का संचालन किया था, पर सवारी न मिलने के कारण उन्होंने भी बसों का संचालन बंद कर दिया। इसके बाद तकरीबन चार महीने नगर निगम ने ही अपने कर्मचारियों के जरिये बसों का संचालन शहरी क्षेत्र में कराया पर फायदा न होने पर लाकडाउन के बाद सभी बसों का संचालन बंद कर दिया।

...इधर निर्देश का पालन नहीं

देवासगेट से इंदौर-देवास की बसों का संचालन बंद हो। ये निर्देश यूसीटीएसएल बोर्ड की 30 जनवरी 2020 को हुई बैठक में तत्कालीन नगर निगम आयुक्त ऋषि गर्ग ने दिए थे, जिसका आज तक पालन नहीं हुआ। जबकि कार्रवाई के लिए पुलिस अधीक्षक और क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी को पत्र भी लिखा गया था। निगम से अनुबंधित तत्कालीन बस आपेरटरों का तर्क था कि सर्वाधिक सवारी देवासगेट बस स्टैंड से सिटी बस आपरेटर को मिल सकती है, इससे बस संचालन फायदे में हो सकता है। इंदौर-देवास की बसों का संचालन देवासगेट से कराए जाने से उन्हें घाटा हो रहा है। इंदौर-देवास की बसों का संचालन नानाखेड़ा बस स्टैंड से ही कराया जाना चाहिए।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags