- नपा में 345 सफाईकर्मी हैं तैनात, लापरवाही का असर स्वच्छता रैंक पर होगा

नागदा जंक्शन। स्वच्छता अभियान को लेकर नपा द्वारा लाखों रुपये खर्च करने व नपा में 345 सफाईकर्मी तैनात होने के बाद भी गली मोहल्ले तो ठीक शहर के मुख्य मार्गों पर सफाई व्यवस्था पूरी तरह चरमरा रही है। शिकायतों के बावजूद नपा अधिकारी ध्यान नहीं दे रहे हैं। फिर भी नपा अधिकारी शहर को स्वच्छता अभियान की रैंक में लाने की बात कर जनता को गुमराह कर रहे हैं।

पिछले दो वर्षों से भी अधिक समय से नपा की कमान प्रशासक के हाथ में होने से अधिकारियों द्वारा मनमाने तरीके से राशि का उपयोग किया। प्रदेश की ए ग्रेड की नपा के खजाने में 8 से 10 करोड़ रुपया जमा रहता था। मुख्य नपा अधिकारियों ने जमा राशि को बिना योजना बनाए शहर में 5-6 पानी की टंकी व संपवेल निर्माण करवाकर सारा पैसा खर्च कर दिया। शहर के विकास कार्य ठेकेदारों को भुगतान नहीं होने के कारण ठप हो गए हैं। अधिकारियों द्वारा स्वच्छता के नाम पर शहर में 10 लाख रुपये की वाल पेंटिंग, कुछ स्थानों पर जेसीबी व बैनर पोस्टरों में भी 12 लाख रु. से अधिक खर्च कर स्वच्छता की रैंक देने वाले दल के सदस्यों को 7 दिन शहर में रखकर नपा को स्वच्छता की रैंक में लाने का दावा अधिकारी कर रहे हैं। ग्राउंड लेवल पर देखें तो शहर के गली-मोहल्ले तो ठीक मुख्य मार्गों पर साफ-सफाई के अभाव में गंदगी का साम्राज्य फैला हुआ है। भीषण गर्मी में नालियां साफ नहीं होने के कारण मच्छरों का प्रकोप बढ़ने से लोग बीमारियों के शिकार हो रहे हैं। कुछ माह पूर्व ही नपा ने 5 लाख रुपये कीमत का फिनाइल, डीटीटी पाउडर व कुछ पानी साफ करने का केमिकल खरीदा। इसके बाद भी शहर में मटमैला पानी शहरवासियों को पिलाया गया। भीषण गर्मी में भी मच्छरों के प्रकोप से बचने के लिए छिड़काव करने के लिए खरीदी गई पाउडर व फिनाइल का शहर में कहीं छिड़काव नहीं किया जा रहा है। नपा में 345 सफाईकर्मी कार्यरत हैं। शहर के बड़े वार्डों में 10-10 सफाईकर्मी तैनात हैं। फिर भी सफाई व्यवस्था पूरी तरह चरमरा गई है। सोमवार को नगरीय निकाय कर्मचारी महासंघ के पदाधिकारियों ने एसडीएम को ज्ञापन देकर बताया था कि 14 वर्ष से घर बैठे नपा के कर्मचारी वेतन ले रहे हैं। कुछ सफाईकर्मी सुबह 5 बजे हाजरी भराने जाते हैं। दो घंटे काम कर घर चले जाते हैं। कईयों की तो घर बैठे ही हाजरी भरा जाती है। जानकारी नपा के वरिष्ठ अधिकारियों को भी है। इनके द्वारा ऐसे लोगों पर कार्रवाई नहीं करने से उनके हौंसले बढ़ते जा रहे हैं।

इनका कहना

व्यवस्था बिगड़ी हुई है, तो इसे सुधारा जाएगा। जो व्यक्ति काम पर नहीं आ रहे हैं, उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

-सीएस जाट, मुख्य नपा अधिकारी नागदा

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close