-बहुचर्चित डल्लू हत्याकांड का आठ माह बाद हुआ पर्दाफाश

बदनावर। नगर में गत 12 जनवरी अशफाक उर्फ डल्लू पुत्र असदअली के जघन्य हत्याकांड का आठ माह बाद पर्दाफाश करने में पुलिस को सफलता मिली है। इस मामले में पुलिस ने चार आरोपित को गिरफ्तार किया है। मंगलवार को आरोपितों को न्यायालय में पेश किया गया, जहां से जेल भेज दिया गया। हत्या का कारण एक आरोपित फारुख ने बताया कि डल्लू ने उसकी पुत्री के साथ बुरी नीयत से छेड़छाड़ की थी। इसी के चलते हत्या करवाई थी। एसडीओपी शेरसिंह भूरिया एवं टीआइ दिनेशसिंह चौहान ने हत्याकांड का पर्दाफाश करते हुए बताया कि 12 जनवरी को अशफाक का शव उसके खेत पर मिला था। मर्ग कायम कर जांच की गई।

किराएदार ने ही करवाई हत्या

अशफाक के मोबाइल की काल डिटेल निकाली गई तो उसमें अशफाक के किराएदार फारुख की पत्नी के मोबाइल पर कई एसएमएस व बातचीत होने की जानकारी मिली पत्नी की काल डिटेल निकालने पर उसकी नागदा जंक्शन निवासी कुख्यात बदमाश गुलफाम से बातचीत होने व घटना दिनांक को गुलफाम के मोबाइल की टावर लोकेशन शाम 7ः30 बजे बदनावर चौपाटी पर मिली। गुलफाम का रिकार्ड देखने पर पाया कि वह नागदा, खाचरौद व रतलाम क्षेत्र का कुख्यात अपराधी है।उस पर 20 से अधिक गंभीर पंजीबद्ध है। पूछताछ में किराए दार फारुख ने उधारी के बारी में जानाकरी दी। केवल चार माह का किराया देना बाकी है। गुलफाम व फारुख के बारे में पता करने पर पता चला कि दोनों बचपन के अच्छे दोस्त हैं। इस बात की जानकारी लगने पर गुलफाम की घटना दिनांक के बाद से ही तलाश की जा रही थी। पुलिस ने कई बार नागदा व खाचरौद जाकर उसकी तलाश की थी। किंतु वह नहीं मिला था।30 जुलाई को गुलफाम तथा उसके साथियों ने नागदा जंक्शन के कपड़ा व्यापारी दिलीप पोरवाल का अपहरण किया था। इस मामले में पुलिस ने उसे गिरफ्तार किया था। नागदा पुलिस ने गुलफाम से पूछताछ की तो उसने डल्लू की हत्या करने की बात कबूली। इस पर गुलफाम को पुलिस द्वारा प्रोडक्शन वारंट के जरिए पूछताछ के लिए बदनावर लाया गया। जहां उसने फारुख के कहने पर अपने साथी रिफ्त एवं साईद निवासी खाचरौद के साथ मिलकर डल्लू की चाकू मारकर हत्या करना कबूल किया॥इस तरह गुलफाम की सूचना पर नागदा से फारुख शाह व खाचरौद से रिफ्त व साईद को पकड़ा गया। इन्होंने पूछताछ में अपना जुर्म स्वीकार कर घटना में प्रयुक्त मोटरसाइकिल, लोहे की राड व चाकू बरामद किए गए।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close