-पोस्टमार्टम नहीं करवाने को लेकर स्वजन ने किया हंगामा

उज्जैन (नईदुनिया प्रतिनिधि)। तराना निवासी महिला की शासकीय चरक अस्पताल में प्रसव के बाद मौत हो गई। स्वजन बगैर ुपोस्टमार्टम करवाए शव को ले जाने लगे। कर्मचारियों ने रोका तो हंगामा हुआ। दो थाना प्रभारियों की समझाइश के बाद स्वजन पीएम करवाने को लेकर राजी हुए।

कोतवाली टीआइ अमित सोलंकी ने बताया कि 22 वर्षीय कोमल निवासी ग्राम सुनेरा (तराना) ने रविवार रात तराना के सरकारी अस्पताल में शिशु को जन्म दिया था। मां व नवजात की हालत खराब होने पर उसे चरक अस्पताल रेफर कर दिया गया था। यहां दोनों को आइसीयू में भर्ती किया गया था। सोमवार सुबह महिला की हालत अधिक खराब होने पर उसे डाक्टर ने इंदौर र्रफर कर दिया था। स्वजन उसे लेकर फ्रीगंज स्थित निजी अस्पताल पहुंचे थे। यहां डाक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया। इसके बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल ले जाया गया था। इस दौरान स्वजन बगैर पीएम करवाए शव को लेकर जा रहे थे। इस पर पुलिस ने उन्हें चरक अस्पताल के बाहर रोक लिया था। इस दौरान हंगामा होने लगा। स्वजन ने तराना व चरक अस्पताल के डाक्टरों की लापरवाही के कारण मौत के आरोप लगाए। इसके बाद जीवाजीगंज टीआइ गगन बादल व कोतवाली टीआइ अमित सोलंकी मौके पर पहुंचे थे। दोनों ने मृतका के स्वजन को समझाइश दी।

सेवानिवृत्त आरक्षक की महाकाल मंदिर में दर्शन के दौरान मौत

उज्जैन (नईदुनिया प्रतिनिधि)। महाकाल मंदिर में दर्शन के लिए आए उत्तर प्रदेश के कुशीनगर निवासी सेवानिवृत्त आरक्षक की मंगलवार सुबह मौत हो गई। दर्शन के दौरान अचानक घबराहट हुई थी। साथ आए लोग जिला अस्पताल पहुंचे थे, यहां डाक्टर ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

महाकाल पुलिस ने बताया कि 65 वर्षीय जगदीश प्रसाद निवासी तिपरा, जमातपुरा, कुशी नगर उत्तर प्रदेश 35 लोगों के साथ बस से उज्जैन दर्शन करने के लिए आए थे। यहां दर्शन के दौरान मंदिर में जगदीश को घबराहट होने पर मंदिर में मौजूद स्वास्थ्यकर्मियों ने जिला अस्पताल ले जाने के लिए कहा था। साथ आए लोग जगदीश को तत्काल जिला अस्पताल ले गए थे, जहां डाक्टर ने जगदीश को मृत घोषित कर दिया। चिकित्सक कहना है कि जगदीश की मौत हार्ट अटैक से हुई है। मामले में मर्ग कायम किया है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close