कुछ वार्डों में त्रिकोणीय संघर्ष की स्थिति

खाचरौद। नगर पालिका चुनाव में भाजपा-कांग्रेस के कई दिग्गजों एवं उनके स्वजन के साथ जनता में रसूख रखने वाले निर्दलीय प्रत्याशियों की भी साख दाव पर लगी हुई है। भाजपा-कांग्रेस दोनों दलों द्वारा गुटबाजी के शिकार हुए नेता दोनों राष्ट्रीय दल भाजपा और कांग्रेस को बाय-बाय कर निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में सीधे जनता के बीच पहुंच रहे हैं।

दिग्गज नेताओं के निर्दलीय बनकर चुनाव में उतरने से कुछ वार्डों में त्रिकोणीय संघर्ष की स्थिति बन गई है। इस चुनाव में कई वार्ड प्रत्याशी विधानसभा स्तर के मैदान में हैं, जो कई वर्षों से विधानसभा उम्मीदवारी की ताल ठोकते आ रहे हैं। अगर इन चुनावों में परिणाम उनकी मंशा के अनुरूप नहीं आते हैं तो उनके भविष्य की राजनीति की साख को धक्का लगेगा।

भाजपा के ये दिग्गज जनता के बीच आजमा रहे अपना भाग्य

वार्ड 2 से शिव हर्रा, वार्ड 3 से सीताराम परमार, वार्ड 5 से राकेश राठौड़, वार्ड 6 से राजकुमार बंबोरिया, वार्ड 8 से राधेश्याम बंबोरिया, वार्ड 10 चिंकी राजेंद्र मेहता, वार्ड 11 से बद्रीलाल संगीतला, वार्ड 12 से नेहा गौहर, वार्ड 14 से राजेश राठौर, वार्ड 16 से फारुख, वार्ड 17 से जय जायसवाल, वार्ड 18 से प्रिया सुमित गेलड़ा, वार्ड 20 से सूर्य प्रकाश शर्मा, वार्ड 21 से मनीषा शर्मा चुनावी मैदान में है।

कांग्रेस के दिग्गज भी आजमा रहे हैं अपना भाग्य

वार्ड 1 में रेखा धाकड़, वार्ड 3 में गोविंद भरावा, वार्ड 4 में नासिर खान उर्फ चुन्नाू लाला, वार्ड 5 में राजू परमार, वार्ड 6 में दिनेश ठन्नाा, वार्ड 9 से कविता नंदेडा, वार्ड 10 से लइक रहमानी, वार्ड 14 से नारायण मंडावलिया, वार्ड 17 से प्रमोद देवड़ा पार्षद पद के लिए भाग्य आजमा रहे हैं।

यह निर्दलीय दे रहे कड़ी टक्कर

वार्ड 1 में भाजपा के बागी भाजयुमो के पूर्व नगर अध्यक्ष रमेश नंदेडा की पत्नी दुर्गाबाई, कांग्रेस के बागी दिनेश मीणा की पत्नी मंजू मीणा, वार्ड 2 में भाजपा के बागी योगेश बैरागी, वार्ड 4 में कांग्रेस के बागी रइस पटेल, वार्ड 10 में कांग्रेस के बागी चंदा बाबूलाल नागर, वार्ड 11 में भाजपा के बागी पूर्व पार्षद रमेश हालैंड, वार्ड 16 में पूर्व पार्षद भाजपा के बागी गौरव शर्मा की पत्नी, वार्ड 19 सलाम खान उर्फ लालू निर्दलीय, वार्ड नंबर 20 में भाजपा के पूर्व पार्षद बागी उम्मीदवार के रूप में पंकज निगम। सभी निर्दलीय अपने वार्डों में भाजपा-कांग्रेस दल को सीधी टक्कर दे रहे हैं और यह वरिष्ठ नेताओं के मनाने के बावजूद मैदान से नहीं हटे हैं।

आज मतदाता चुनेंगे नगर सरकार

- मतदाता पर्ची मतदान केंद्र पर होगी उपलब्ध

बड़नगर। नगर के मतदाता बुधवार को नगर सरकार को चुनने के लिए मतदान करेंगे। प्रशासन द्वारा इसके लिए सारी तैयारियां पूर्ण कर ली गई है। 48 घंटे पूर्व सोमवार शाम 5 बजे के बाद से ही चुनावी शोरगुल थम गया। इसके बाद प्रत्याशियों द्वारा घर घर जाकर मौखिक रूप से प्रचार किया गया। सहायक रिटर्निंग अधिकारी सुदीप मीणा ने बताया कि मंगलवार सुबह से ही मतदान दल मय सामग्री के मतदान केंद्र तक पहुंच गए। अगर किसी मतदाता को मतदान पर्ची नहीं मिली हो तो वे मतदान केंद्र पर सुबह से शाम तक पहुंचकर बीएलओ से मतदान पर्ची प्राप्त कर सकते हैं। नगर के 18 वार्डों के लिए 37 मतदान केंद्र बनाए गए हैं, जहां पर मतदाता अपने मत का प्रयोग कर पसंदीदा प्रत्याशी चुनेंगे। प्रत्याशियों में इंजीनियर से लेकर एडव्होकेट, तो चाय वाले से लेकर करोड़पति सेठ तक अपना भाग्य आजमा रहे हैं।

नगर निकाय के चुनाव की सरगर्मी बढ़ी

- बागी प्रत्याशी निर्दलीय चुनाव लड़ दे रहे चुनौती

उन्हेल। जिला पंचायत एवं ग्राम पंचायत चुनाव संपन्ना होने के बाद नगर निकाय के चुनाव की सरगर्मी बढ़ गई। चुनाव कार्यालय के शुभारंभ के साथ ही नगर में पोस्टर एवं फ्लेक्स के माध्यम से प्रचार करते हुए प्रत्याशी घर-घर जाकर मतदाताओं से संपर्क कर रहे हैं।

मतदाता चुप हैं। समय आने पर ही पता चलेगा कि बाजी किस करवट बैठती है एवं सेहरा किसके सिर पर बंधेगा। भाजपा एवं कांग्रेस के उम्मीदवारों को अपने ही बागी निर्दलीय उम्मीदवार चुनौती दे रहे हैं। 15 वार्ड में पार्टी अधिकृत उम्मीदवारों के अलावा 33 उम्मीदवार मैदान में हैं, जिसमें वार्ड 2, 5, 6, 8 एवं 11 वार्ड में निर्दलीय उम्मीदवारों की संख्या 5 या 5 से अधिक हैं। इस कारण निर्दलीय पार्टी अधिकृत उम्मीदवारों के लिए चुनौती बने हुए हैं। वार्ड 1 में भाजपा उम्मीदवार के लिए निर्दलीय चुनौती बनी हुई है। वार्ड 2 में कांग्रेस के अधिकृत उम्मीदवार के लिए मुस्लिम उम्मीदवार परेशानी खड़ा कर सकते हैं। भाजपा प्रत्याशी के लिए निर्दलीय प्रत्याशी चुनौती बना हुआ है। वार्ड 3 में कांग्रेस उम्मीदवार के लिए बागी प्रत्याशी पूर्व पार्षद मैदान में है। यहां भाजपा उम्मीदवार कमजोर दिखाई दे रहा है। यहां कांग्रेस के अधिकृत व बागी उम्मीदवार के बीच मुकाबला है। वार्ड नंबर 4 मुस्लिम बाहुल्य होने से यहां पर मुस्लिम पार्षद बनता आया है। इसलिए भाजपा ने इस बार पूर्व पार्षद मंजू रखा मुल्तानी को मैदान में उतारा है। कांग्रेस के उम्मीदवार को एक अन्य मुस्लिम प्रत्याशी चुनौती दे रहा है। वार्ड 5 सबसे चर्चित वार्ड माना जा रहा है। यहां पर कांग्रेस ने साधन संपन्ना व्यक्ति को चुनावी रण में उतारा है। कांग्रेस के पूर्व पार्षद ने बागी होकर खेल बिगाड़ रखा है। कांग्रेस के लिए मुस्लिम प्रत्याशी भी चुनौती दे रहा है। भाजपा ने यहां पर धाकड़ समाज के व्यक्ति को अपना उम्मीदवार बनाया है, लेकिन धाकड़ समाज के ही दो अन्य भी मैदान में जोर आजमाइश कर रहे हैं।

कोटवारों को डाक मतपत्र देने की मांग

उन्हेल। ग्रामीण क्षेत्र में पदस्थ कोटवारों की चुनाव के समय अन्य क्षेत्रों में ड्यूटी लगाई जाती है, जिसके कारण यह चौकीदार मतदान जैसे महत्वपूर्ण कार्य में अपना योगदान देने से वंचित रह जाते हैं। जानकारी के अनुसार कोटवारों के लिए डाक मतपत्र की भी व्यवस्था नहीं रहती है। अगर इस तरह की व्यवस्था कोटवारों को भी प्रशासन उपलब्ध कराता है तो यह लोग भी मतदान से वंचित नहीं रहेंगे। कोटवारों ने प्रशासन से चुनाव ड्यूटी के समय अन्य शासकीय कर्मचारियों की तरह कोटवारों को भी डाक मतपत्र का उपयोग करने की अनुमति दिए जाने की मांग की है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close