उज्जैन (नईदुनिया प्रतिनिधि)। उज्जैन स्मार्ट सिटी कंपनी ने सोमवार शाम बेगमबाग से अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई शुरू की। दो मकान तोड़े। साथ ही यहां के 152 भवन स्वामियों को निर्देश दिए कि वे सात दिन में अपने मकान हटा लें, वरना निगम सख्ती से हटाएगी।

बता दें कि उज्जैन स्मार्ट सिटी कंपनी महाकाल क्षेत्र विकास एवं सुंदरीकरण के लिए बेगमबाग की जमीन पर तने 154 मकान हटाकर वहां इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए डॉकिंग स्टेशन, वाहन पार्किंग स्टैंड, मंदिर के प्रशासनिक भवन बनाएगी। कुछ कार्यों के लिए भूमिपूजन भी पिछले माह किया जा चुका है। चि-ति जमीन पर 154 मकान हैं, जिन्हें हटाने को बीते तीन माह में नगर निगम दो बार मुनादी करा चुका है और हर बार सात-सात दिन का वक्त मकान हटाने को दे चुका है। बावजूद अब तक न प्रभावित परिवार खुद हटे हैं और न प्रशासन ने सख्ती से उन्हें हटाया है। हां, ट्रेलर दिखाने को सोमवार को दो मकान जरूर ढहाए गए। कार्रवाई उज्जैन स्मार्ट सिटी कंपनी के सीईओ जितेंद्रसिंह चौहान के नेतृत्व में नगर निगम की रिमूह्वल टीम ने शाम 5.30 बजे की।

मालिकों को मिलेगा 3 हजार र्स्पये मासिक किराया

बेगमबाग में जितने भी भवन टूटेंगे, उनके भवन मालिकों को धतरावदा में प्रधानमंत्री आवास योजना अंतर्गत बनाई जाने वाली मल्टी विस्थापित किया जाएगा। जब तक मल्टी नहीं बनती, तब तक प्रभावित भवन मालिकों को 3 हजार र्स्पये मासिक किराया दिया जाएगा। जो किरायेदार हैं, उन्हें ना फ्लेट मिलेगा और ना किराया।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags