उज्जैन (नईदुनिया प्रतिनिधि)। इंदिरा नगर निवासी महिला के पति की पैर की हड्डी में फ्रेक्चर हो गया था। इस कारण वह उसे जिला अस्पताल लेकर गई थी। जहां चिकित्सक ने उसे अस्पताल में भर्ती करने को कहा था। महिला अपने पति को नीचे छोड़कर लिफ्ट लेने के लिए ऊपर गई थी। लिफ्ट लेकर जब वह नीचे आ रही थी उसी दौरान लिफ्ट खराब हो गई। इससे वह उसमें फंस गई। महिला के शोर मचाने पर अस्पताल कर्मचारियों व अन्य लोगों ने लिफ्ट के ऊपर बने वेंटिलेशन को खोलकर उसे बाहर निकाला। बता दें कि करीब 1 माह पूर्व भी अस्पताल की लिफ्ट इसी तरह से खराब हुई थी। अस्पताल के अधिकारियों का कहना है कि लिफ्ट 70 साल पुरानी है। इसे बदलने के लिए 20 लाख का एस्टीमेट बनाकर शासन को भेजा गया है।

बुधवार को माधवपुरा निवासी इंदिरा बाई पत्नी बंशीलाल अपने पति को उपचार के लिए जिला अस्पताल ले गई थी। जहां चिकित्सक ने उसे वार्ड में भर्ती करने को कहा था। महिला अपने पति को नीचे छोड़कर सीढ़ियों से ऊपर जाकर लिफ्ट लेने गई थी। लिफ्ट लेकर नीचे की ओर आ रही थी उसी दौरान लिफ्ट खराब हो गई। लिफ्ट के बंद होने के कारण इंदिरा बाई उसमें फंस गई थी। जिस पर उसने शोर मचाया तो अस्पताल के कर्मचारी एकत्र हुए तथा महिला को लिफ्ट के ऊपर की ओर बने वेंटिलेशन को खोलकर बाहर निकाला। महिला जैसे तैसे लिफ्ट से बाहर आई।

70 साल पुरानी है लिफ्ट

जिला अस्पताल के आरएमओ डॉ. जीएस धवन ने बताया कि अस्पताल में लगी लिफ्ट करीब 70 साल पुरानी है। इस कारण आए दिन खराब हो जाती है। करीब एक माह पूर्व भी 4 लोग लिफ्ट खराब होने से उसमें फंस गए थे। जिसके बाद अस्पताल प्रशासन ने 20 लाख रुपये से नई लिफ्ट लगाने का प्रस्ताव बनाकर शासन को भेजा था। अधिकारियों का कहना है कि मुख्यालय से प्रस्ताव को मंजूरी मिलने के बाद नई लिफ्ट लगाई जाएगी।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस