-अखिल भारतीय आयुर्वेद महासम्मेलन के अधिवेशन का उद्घाटन करेंगे

-रेड कारपेट पर चलकर महाकाल मंदिर में प्रवेश करेंगे

-आगमन से पहले हुई रिहर्सल, रास्ते बंद कर देने लंबा जाम लगा

उज्जैन (नईदुनिया प्रतिनिधि)। देश के प्रथम नागरिक राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द रविवार सुबह 9.30 बजे हेलीकाप्टर से उज्जैन आएंगे। वे कालिदास अकादमी के पंडित सूर्यनारायण व्यास संकुल में होने वाले अखिल भारतीय आयुर्वेद महासम्मेलन के 59वें अधिवेशन का उद्घाटन करेंगे। घंटेभर रुककर श्री महाकालेश्वर मंदिर में पूजन-अर्चन करने जाएंगे। तत्पश्चात सर्किट हाउस पहुंचकर भोजन करेंगे। शाम पांच बजे इंदौर रवाना होंगे। उनके आगमन से पहले शनिवार को रिहर्सल की गई। प्रस्तावित मार्ग से वाहनों का काफिला निकाला। इस दरमियान रास्ते बंद कर देने से देवास रोड, इंदौर रोड पर वाहनों का लंबा जाम लगा।

राष्ट्रपति की सुरक्षा और स्वागत की शासन-प्रशासन ने व्यापक तैयारी की है। कुछ तैयारियां साफ तौर पर दिखाई दे रही हैं और कुछ को सुरक्षा के लिहाज से गोपनीय रखा गया है। हेलीपेड से लेकर मार्ग, संकुल, सर्किट हाउस और मंदिर को करीब दो करोड़ रुपये खर्च कर सजाया है। जगह-जगह पुलिस जवानों की तैनाती की गई है। महासम्मेलन की कार्यकरिणी ने राष्ट्रपति का स्वागत भगवान धन्वंतरि की पंचधातु से बनी मूर्ति भेंट कर करने की तैयारी की है। अधिवेशन में प्रसिद्ध वैद्यों को सम्मानित किया जाएगा। आयुर्वेद आहार, स्वस्थ भारत का आधार विषय पर वैज्ञानिक कान्फ्रेंस भी होगी।

सीएम, राज्यपाल और केंद्रीय आयुष मंत्री भी आएंगे

महासम्मेलन के अध्यक्ष पद्मभूषण वैद्य देवेन्द्र त्रिगुणा ने बताया अधिवेशन में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, राज्यपाल मंगुभाई पटेल, केंद्रीय आयुष मंत्री सर्वानंद सोनोवाल, प्रदेश के आयुष मंत्री रामकिशोर नानो कांवरे, उच्च शिक्षा मंत्री डा. मोहन यादव, सांसद अनिल फिरोजिया, विधायक पारस जैन भी शामिल होंगे।

महाकाल मंदिर में भी तैयारियां

राष्ट्रपति कोविन्द दोपहर में ज्योतिर्लिंग महाकाल मंदिर मंदिर जाएंगे। प्रशासन के अनुसार राष्ट्रपति दोपहर 11 बजकर 50 मिनट पर मंदिर पहुंचेंगे। इसके बाद मंदिर के गर्भगृह में भगवान महाकाल की पूजा-अर्चना करेंगे। महामहिम मंदिर परिसर स्थित महानिर्वाणी अखाड़े भी जाएंगे। महाकाल मंदिर में राष्ट्रपति के आगमन को लेकर सुविधा व सुरक्षा व्यवस्था सख्त की गई है। मंदिर परिसर में ग्रीन रूम तथा अत्याधुनिक चिकित्सा सुविधा से लैस आइसीयू का निर्माण किया गया है। किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए सुरक्षा के भी अभूतपूर्व इंतजाम किए गए हैं। राष्ट्रपति रेड कारपेट पर चलकर मंदिर में प्रवेश करेंगे। नंदी मंडपम में उनके बैठने के लिए विशेष इंतजाम रहेंगे। गर्भगृह, नंदी मंडपममें आकर्षक पुष्प सज्जा की गई है। बताया जाता है शासकीय पुजारी व उनके सहयोगी राष्ट्रपति को विधि-विधान से भगवान महाकाल की पूजा कराएंगे। इस दौरान परंपरा अनुसार पाट पर तीन पुजारी बैठेंगे। जिस समय राष्ट्रपति मंदिर में दर्शन पूजन करेंगे, सुरक्षा के मद्देनजर भक्तों का प्रवेश प्रतिबंधित रहेगा।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close