- अधिक तौल करने वाले व्यापारी का दो लाख रु. का सोयाबीन जब्त

उज्जैन (नईदुनिया प्रतिनिधि)। कृषि मंडी में रिमोट से अधिक तौल के मामले के बाद मंडी प्रशासन सतर्कता बतौर तौल कांटों की सघन जांच में लग गया है। प्रांगण में करीब 25 व्यापारिक प्रतिष्ठान पर जाकर किसानों के सामने तौल कांटों की जांच की गई। हालांकि किसी भी कांटे में गड़बड़ियां नहीं पाई गई। समिति ने शारदा ट्रेडिंग कंपनी की अधिक तौल के दौरान करीब दो लाख रुपये की सोयाबीन जब्त कर कब्जे में ले ली है। पुलिस की पूछताछ में कांटों की रखरखाव एजेंसी के कर्मचारी ने कुछ अन्य कांटों में भी रिमोट सिस्टम लगाने व कारगुजारी करने की बात स्वीकारी है, लेकिन पुलिस इसकी पुष्टि नहीं कर रही है। कर्मचारी को छोड़ दिया है। बावजूद मंडी में चर्चा है कि अभी भी अधिक तौल जारी है।

कृषि मंडी में रिमोट कंट्रोल से अधिक तौल की घटना के बाद मंडी समिति ने सतर्कता बतौर व्यापारिक तौल कांटों की जांच तो शुरू कर दी है। बुधवार को करीब 25 कांटों की नब्ज टटोली गई, लेकिन सभी दुरुस्त पाए गए। जांच प्रभारी सतीश शर्मा ने बताया कि जांच के दौरान किसानों को भी शामिल किया गया। उपकरण को खोलकर भी देखा गया। यह जांच सतत जारी रहेगी। समिति ने शारदा ट्रेडिंग कंपनी की दुकान को सील कर करीब 2 लाख की सोयाबीन अपने कब्जे में ले ली है।

चिमनगंज पुलिस थाना प्रभारी जितेंद्र भास्कर ने बताया कि रिमांड के दौरान व्यापारी राजू जायसवाल ने अभी तक रिमोट को लेकर कोई जानकारी नहीं दी है। मेंटेनेंस एजेंसी के कर्मचारी चेतन जैन ने सिर्फ इतना बताया कि मैं व्यापारियों के काल पर कांटा दुरुस्त करने का काम करता हूं। रिमोट को लेकर कोई जानकारी नहीं है।

व्यापारी संघ करेगा जारी लायसेंस की अनुशंसा की समीक्षा

इधर रिमोट से अधिक तौल के मामले को व्यापारी संघ ने भी गंभीरता से लिया है। बुधवार को कार्यकारिणी की बैठक में निर्णय लिया कि संघ ने जिन व्यापारियों को मंडी लायसेंस बनाने की अनुशंसा की है, उसकी समीक्षा की जाए। संघ अध्यक्ष गोविंद खंडेलवाल व सचिव अनिल गर्ग ने बताया कि इसके लिए 5 सदस्यों की समिति बनाई जाएगी, जो एक सप्ताह में लायसेंसधारी व्यापारियों, कारोबार गतिविधियों की समीक्षा कर कार्यकारिणी की बैठक में रखेगी। जिन कारोबारियों की कार्यशैली शंकास्पद पाई जाएगी, उसके खिलाफ मंडी समिति के माध्यम से उचित कार्रवाई करवाई जाएगी।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close