नागदा जं.। जिले में हुई क्राइसेस मैनेजमेंट की बैठक में जनप्रतिनिधियों की मांग पर कलेक्टर ने सभी दुकानें खोलने की अनुमति दी। बैठक चल ही रही थी और व्यापारियों ने दुकानें खोल दी। एसडीएम ने शाम को आदेश जारी किए। पार्क व उद्यान भी कोविड के नियमों के तहत 13 घंटे खोले जाएंगे।

गुरुवार को व्यापारी संगठनों ने किराना संघ अध्यक्ष महेंद्र राठौर के नेतृत्व में कलेक्टर, प्रभारी मंत्री व सांसद के नाम एसडीएम को ज्ञापन सौपते हुए मांग की थी कि एक साथ बाजार खोला जाए। चेतावनी भी दी थी कि यदि एक साथ बाजार खोलने की अनुमति नहीं दी तो सभी व्यापारी संगठन अनिश्चितकालीन हड़ताल कर धरने पर बैठेंगे। शुक्रवार को जिले में हुई क्राइसेस मैनेजमेंट की बैठक में निर्णय किया गया कि पूरे जिले की दुकानें एक साथ खोली जाए। बैठक चल ही रही थी, शहर की सभी दुकानें खुल गई। शुक्रवार की शाम एसडीएम आशुतोष गोस्वामी ने आदेश जारी करते हुए बताया कि किराना, कपड़ा, बर्तन, ज्वेलरी, कटलरी, आटा चक्की, सैलून, इलेक्ट्रीकल्स, इलेक्ट्रानिक्स, मोबाइल दुकान, रेस्टोरेंट, हाथ ठेले एवं विभिन्ना व्यवसाय की दुकान प्रतिदिन सुबह 6 से सायं 7 बजे तक संचालित की जा सकेंगी। सार्वजनिक पार्क एवं उद्यान के खुलने का समय प्रतिदिन सुबह 6 से सायं 7 बजे तक रहेगा। शनिवार की रात्रि 8 बजे से सोमवार सुबह 6 बजे तक पूर्णत लाकडाउन रहेगा।

पूर्ण बाजार खुलने का निर्णय होते ही सैंपलिंग करने टीम शहर पहुंची

नागदा जं.। शहर की सभी दुकानें खोलने का निर्णय होते ही सैंपलिंग करने के लिए अधिकारियों की एक टीम शहर में पहुंचने के बाद व्यापारियों में हड़कंप मच गया। इस बार टीम सैंपलिंग करने नहीं ईट्राईट चैलेंज अभियान के तहत सैंपलिंग करने आई थी। शुक्रवार को हुई सैंपलिंग में न्यायालयीन कार्रवाई नहीं होगी। सैंपल की जांच के बाद यदि कुछ मिलावट सामने आती भी है तो कार्रवाई की जगह उस कंपनी के प्राडक्ट नहीं बेचने की समझाइश व्यापारियों को दी जाएगी। साथ ही स्कूलों के विद्यार्थी व आम उपभोक्ताओं को भी विभाग जागरूक करेगा।

शुक्रवार की सुबह 11 बजे खाद्य अपमिश्रण की टीम ने शहर में पहुंचकर कई दुकानों की सैंपलिंग की। जिससे व्यापारियों में हड़कंप मच गया। आक्रोश व्यक्त करते हुए व्यापारियों ने कहा कि इतने दिन बाद दुकानें खुल रही है और सैंपलिंग की कार्रवाई करने टीम आ गई। अधिकारियों ने समझाया कि इस बार सैंपलिंग न्यायालयीन कार्रवाई व जुर्माने के लिए नहीं की जा रही है। तब जाकर व्यापारियों का आक्रोश शांत हुआ। फूड इंस्पेक्टर बसंत शर्मा ने बताया कि नागदा में दूध व दूध से बने, अनाज व उससे बने, दाल व उससे बने पदार्थों के नागदा व उन्हेल से 100 सैंपलिंग लिए गए हैं। सैंपल की जांच के बाद यदि कुछ मिलावट सामने आती है तो संबंधित व्यापारी पर समझाइश दी जाएगी। टीम में मनीष स्वामी, दीपक हरताई, बीएस देवलिया शामिल थे।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags