उज्जैन (नईदुनिया प्रतिनिधि)। मोक्षदायिनी शिप्रा नदी में शहर के गंदे नालों का पानी बगैर उपचार सीधे मिल रहा है। कारण 9 में से 6 पंप हाउस का बंद होना और चैंबर में कचरा अटकने से पानी ओवरफ्लो होना है। परिणाम स्वरूप नदी किनारे अत्यंत दुर्गंध फैल रही और श्रद्धालुओं की जनभावना आहत हो रही है।

मालूम हो कि शहर में व्यवस्थिति सीवरेज नेटवर्क सिस्टम नहीं है। नगर निगम से अनुबंधित टाटा प्रोजेक्ट्स कंपनी, सीवरेज पाइपलाइन का नेटवर्क जरूर बिछा रही है, पर काम खत्म होकर फायदा मिलना दूर की बात लग रही है। ऐसे में शिप्रा की शुद्धि डेढ़ दशक पहले बनाए 9 पंप हाउस और दो आक्सीडेशन पोंड के भरोसे ही है। अभी की स्थिति में 6 पंप हाउस बंद है और केवल तीन ही चालू हैं। रामघाट स्थति छोटे पुल के पास, चक्रतीर्थ, मंगलनाथ क्षेत्र और भूखीमाता क्षेत्र में नालों का पानी सीधे शिप्रा में मिल रहा है। रामघाट के पास सीवरेज पाइपलाइन में लीकेज भी है। इसकी वजह से पूरे क्षेत्र में बदबू फैल रही है। लोगों का कहना है कि नदी से लोगों की धार्मिक आस्था जुड़ी होती है। नदी का पानी साफ रखना समाज के साथ स्थानीय निकाय की जिम्मेदारी है। पीएचई का दायित्व है कि वह समय-समय पर पाइपलाइन का मेंटेनेंस करें और ऐसे इंतजाम करें कि नालों का पानी बगैर उपचार के शिप्रा में ना मिले।

इनका कहना

वर्षाकाल शुरू होने के साथ डूब क्षेत्रवाले पंप हाउस की मोटर निकालकर उसे बंद करना पड़ता है। अगर ऐसा नहीं करेंगे तो मोटर, शिप्रा में उफान आने पर बहकर लापता हो सकती है। जहां तक लीकेज का सवाल है, सुधार कार्य किया जाता है। पाइपलाइन वर्षों पुरानी है और शहर में कई निर्माण कार्य चल रहे हैं, इसलिए पाइपलाइन लीकेज होना आम बात हो गई है। सीवरेज पाइपलाइन नेटवर्क बिछने के बाद नालों का पानी उपचार के बाद ही शिप्रा में मिलेगा।

- आरके खंडेलवाल, कार्यपालन यत्री, पीएचई

शहर में बिछाया जा चुका है 170 किमी लंबा सीवरेज पाइपलाइन का नेटवर्क

टाटा प्रोजेक्ट्स कंपनी, बीते साढ़े तीन साल में 170 किमी लंबा सीवरेज पाइपलाइन का नेटवर्क शहर में बिछा चुकी है। 269 किमी लंबी पाइपलाइन बिछाने का काम अभी भी शेष है। अभी वर्षाकाल में काम अत्यंत धीमी गति से चल रहा है। याद रहे कि नवंबर-2017 में प्रोजेक्ट शुरू हुआ था। अनुबंध अनुसार कंपनी को प्रोजेक्ट 24 महीनों में पूरा करना था, पर काम साढ़े तीन साल बाद भी अधूरा है। कहा गया है कि पहले चरण में शहर के 54 में से 35 वार्डों में पाइपलाइन बिछाई जा रही है। दूसरे चरण में शेष 19 वार्डों में पाइपलाइन बिछाई जाएगी।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local