- नपा कर रही मटमैले पानी का सप्लाय, जनसुनवाई में शिकायत

नागदा जंक्शन। चंबल नदी से नगरपालिका और ग्रासिम दोनों पानी ले रहे हैं, लेकिन नगरपालिका नागरिकों को मटमैला पानी पीला रही और ग्रासिम कांच जैसा पानी सप्लाय कर रही है। वर्ष 2015 से नवीन फिल्टर प्लांट का संचालन किया जा रहा है। उसके बाद भी आज तक शहर की जनता को शुद्ध पानी नहीं मिल रहा है।

आचार संहिता लगने के पहले एसडीएम कार्यालय में मंगलवार को जनसुनवाई एसडीएम आशुतोष गोस्वामी की मौजूदगी में हुई, जिसमें नगरपालिका द्वारा मटमैले पानी का मामला छाया रहा। कांग्रेस के जिला कार्यकारी अध्यक्ष सुबोध स्वामी ने आरोप लगाया कि बारिश का समय नजदीक है, ऐसे में नागरिकों को फिर मटमैला पानी सप्लाय किया जाएगा। ग्रासिम और नगरपालिका चंबल नदी से रा वाटर ले रहे हैं तो ग्रासिम की कालोनी में शुद्ध पेयजल और नागदावासियों को मटमैला पानी पीने पर विवश होना पड़ रहा है। नगरपालिका एलम की जगह पाली एलुमिनियम क्लोराइड लिक्विड (पीएसी) केमिकल का उपयोग क्यों नहीं करती है। नपा अधिकारियों ने पीएसी के लिए अभी तक स्थानीय उद्योग को पत्र तक नहीं लिखा। नपा इंजी. शाहिद मिर्जा ने बताया कि 25 मई को केमिकल उद्योग को पत्र लिखा, जिसमें 36 हजार रुपये एडवांस जमा कराने की बात कही गई है। सीएसआर मद में उद्योग से पीएसी लेने की बात कही, जिसको एसडीएम गोस्वामी ने सिरे से खारिज कर दिया। एसडीएम ने कहा उद्योग से पीएसी लेने के लिए निर्धारित प्रक्रिया का पालन किया जाएगा। जनसुनवाई में इंजीनियर गिरधारीलाल गुप्ता, जेई दिनेश शर्मा, रितेश उपाध्याय, प्रमोद मकवानी सहित अन्य विभाग के कर्मचारी मौजूद रहे।

पानी नहीं मिला तो जनपद पर करेंगे तालाबंदी

गांव बेरछा में नल जल योजना के पूर्ण नहीं होने से ग्रामीणों को गर्मी के दिनों में पेयजल संकट का सामना करना पड़ रहा है। यह बात भारतीय किसान संघ के नागूसिंह आंजना ने कही। उन्होंने बताया कि किसानों के हित में भारतीय किसान संघ ने जिला सहकारी बैंक पर ताला लगा दिया। अब पेयजल के लिए जनपद कार्यालय पर ताला लगाना पड़ा तो लगाएंगे। नायब तहसीलदार सलोनी पटवा ने नल जल योजना के ठेकेदार से मोबाइल पर चर्चा की। ठेकेदार ने पाइप लाइन का अभाव बताया। किसान नेता आंजना ने जनसहयोग से पाइप लाइन उपलब्ध कराने की बात कही।

जनसुनवाई में नहीं मिल रहा न्याय

नागरिक अधिकार मंच के अध्यक्ष अभय चोपड़ा ने बताया कि मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान द्वारा नागरिकों की समस्याओं के समाधान के लिए जनसुनवाई का आयोजन किया जा रहा है। स्थानीय स्तर पर प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा जनसुनवाई का मजाक बनाया जा रहा है, जिससे नागरिकों को न्याय नहीं मिल रहा है। चोपड़ा के अनुसार एसडीएम आशुतोष गोस्वामी का अधीनस्थ अधिकारियों पर नियंत्रण नहीं होने से समस्याओं का समाधान नहीं हो रहा है। ऐसे में अधिकारियों की शिकायत कलेक्टर से की जाना चाहिए।

जनसुनवाई नहीं होने की दी जानकारी

जनसुनवाई में भले ही समाधान नहीं हो रहा हो। प्रति मंगलवार को बड़ी संख्या में लोग जनसुनवाई में समस्या लेकर पहुंच रहे हैं। ज्यादा पीड़ितों के आने से एसडीएम कार्यालय के बाबुओं पर काम का लोड आने से वह भी घबराने लग गए हैं। आरटीआइ कार्यकर्ता अभिषेक चौरसिया ने आरोप लगाया कि एसडीएम कार्यालय के बाबू राजावत ने उन्हें सोमवार को बताया था कि मंगलवार को जनसुनवाई नहीं होगी, जिससे कई लोग जनसुनवाई में भाग नहीं ले सके।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close