उज्जैन, Ujjain Triveni Ghat। शिप्रा नदी के त्रिवेणी घाट क्षेत्र में कुछ दिनों से धमाके होने के बाद सोमवार सुबह भारतीय भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण (जीएसआइ) का दल निरीक्षण करने आया। दल में शामिल अधिकारियों ने घाट क्षेत्र का बारीकी से मुआयना कर ग्रामीणों से भी चर्चा की। विशेषज्ञों के अनुसार प्रथम दृष्टया घटना संदिग्ध लगती है। जांच पूरी होने के बाद ही कुछ कहा जा सकता है। दल ने मिट्टी, पानी के नमूने भी लिए हैं। बता दें कि नदी के त्रिवेणी घाट क्षेत्र में ही धमाके हुए हैं। ग्रामीणों की सूचना के बाद पीएचई के एक कर्मचारी को निगरानी के लिए तैनात किया गया था। शुक्रवार को फिर धमाके हुए तो कर्मचारी ने इसका वीडियो बना लिया और अधिकारियों को दिखाया। ग्रामीणों का कहना है कि कुछ सेकंड के लिए धमाके की आवाज सुनाई देती है और आग दिखती है। पानी भी उछलता हुआ दिखा। हालांकि शनिवार और रविवार को ऐसा नहीं हुआ।

देर रात को उज्जैन पहुंचा दल

मामले की जांच के लिए कलेक्टर आशीष सिंह ने जीएसआइ को ईमेल किया था। इसके बाद दल रविवार रात को ही उज्जैन पहुंच गया। सुबह 8 बजे त्रिवेणी घाट पहुंचे दल ने उपकरणों की मदद से पड़ताल शुरू की। विशेषज्ञों का कहना था कि वीडियो में धमाके और धुआं दिख रहा है। पानी उछलनेे जैसी कोई चीज नजर नहीं आ रही। मौके पर भी फिलहाल ऐसे कोई तथ्य नजर नहीं आ रहे, जो केमिकल रिएक्शन आदि की पुष्टि करते हों। धमाकों के कारणों का पता लगाया जा रहा है। कलेक्टर आशीष सिंह ने बताया कि ओएनजीसी को भी ईमेल किया है। वहां से भी जांच टीम उज्जैन आएगी।

श्रद्धालुओं के घाट क्षेत्र में जाने पर रोक

इधर प्रशासन ने घटना की जांच तक श्रद्धालुओं को घाट पर जाने से रोक दिया है। यहां पीएचइ के कर्मचारियों की तैनाती की गई है। बीते दो दिनों से नदी क्षेत्र में धमाके नहीं हुए हैं।

Posted By: Prashant Pandey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags