Ujjain Weather Update: उज्जैन (नईदुनिया प्रतिनिधि)। इस साल जून में औसत से 26 फीसद कम वर्षा हुई है। कारण, दो पश्चिमी विक्षोभों के कारण अरब सागर की मानसूनी हवाओं का कमजोर पड़ना है। हालांकि मौसम विभाग ने सप्ताहभर बाद मूसलधार वर्षा होने का अनुमान जताया है। कहा है कि उज्जैन में सोमवार-मंगलवार से मध्यम हल्की वर्षा के साथ मानसून की दस्तक हो जाएगी।

मौसम विभाग की ताजा रिपोर्ट के अनुसार 1 से 19 जून के बीच साल 2020 और साल 2021 में सामान्य से अधिक वर्षा हुई थी। मगर इस बार ऐसा नहीं हुआ है। यहां सामान्य 51.8 मिलीमीटर वर्षा के मुकाबले साल 2020 में 71.3 मिलीमीटर और साल 2021 में 67 मिलीमीटर वर्षा हुई थी। जबकि इस साल सिर्फ 42.1 मिलीमीटर ही हुई है। मौसम विज्ञानी वेदप्रकाश सिंह ने बताया कि इस साल पूर्वी मध्यप्रदेश में अच्छी वर्षा हुई है। कारण बंगाल की खाड़ी से मानसूनी हवाओं का रुख बेहतर होना है। बात बीते पांच वर्षों की करें तो इसी अवधि में सर्वाधिक वर्षा साल 2017 में 82 मिलीमीटर हुई थी और सबसे कम वर्षा साल 2018 में 24.6 मिलीमीटर हुई थी।

याद रहे कि वर्षाकाल 1 जून से 30 सितंबर तक माना गया है। उज्जैन जिले की औसत बारिश 906 मिलीमीटर है, जिसके विरुद्ध गत वर्ष 708 मिलीमीटर बारिश हुई थी। परिणाम स्वरूप इस वर्ष मार्च में ही हजारों हैंडपंप सूख गए। भूजल स्तर तेजी से गिरा। स्थिति यह बनी कि मई में जमीनी पानी सतह से 15 मीटर नीचे मिल रहा था। मौसम विभाग ने इस वर्ष अच्छी बारिश का अनुमान जताया है।

गंभीर में 365 एमसीएफटी पानी

शहर में जलापूर्ति के मुख्य केंद्र गंभीर जलाशय में अब 365 मिलियन क्यूबिक फीट(एमसीएफटी) पानी है। इतना कि 100 एमसीएफटी डेड स्टोरेट का छोड़ दें तो 8 एमसीएफटी प्रतिदिन की जरूरत के मान से शहर में महीनेभर निर्बाध जल प्रदाय किया जा सकता है।

13 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चली हवा, पारा गिरा

रविवार को शहर में हवा 13 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चली। 24 घंटों में दिन का अधिकतम तापमान 36 डिग्री से लुढ़ककर 35.5 डिग्री सेल्सियस पहुंच गया। रात का न्यूनतम तापमान 26 डिग्री से उछलकर 26.2 डिग्री सेल्सियस हो गया है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close