Ujjain National Loke Adalat News: उज्जैन (नईदुनिया प्रतिनिधि)। राष्ट्रीय लोक अदालत में शनिवार को समझौते से 4709 केस सुलझे। ये केस चेक बाउंस, मोटर दुर्घटना बीमा, बिजली बिल, परिवार विवाद, दीवानी आदि मुकदमों के थे, जिन्हें 44 खंडपीठों से निपटाया गया। साढ़े आठ करोड़ रुपये से ज्यादा का अवार्ड भी पारित किया। इसमें 65 प्रकरण दुर्घटना बीमा के थे, जिनमें 1 करोड़ 46 लाख 33 हजार रुपये की राशि स्वीकृत कराई। लोक अदालत में आए पक्षकारों को गर्मी से राहत देने को सांची दुग्ध संघ की ओर से छाछ का वितरण किया गया।

लोक अदालत का शुभारंभ जिला न्यायालय परिसर में विधिक सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष एवं प्रधान न्यायाधीश आरके वाणी, अरविंद जैन, राज्य अधिवक्ता परिषद के उपाध्यक्ष प्रताप मेहता, मंडल अभिभाषक संघ के अध्यक्ष रवींद्र त्रिवेदी, विशेष न्यायाधीश अश्वाक अहमद खान, वरिष्ठ अभिभाषक हरदयालसिंह ठाकुर के आतिथ्य में हुआ। लोक अदालत में निराकरण के लिए 14601 प्रकरण रखे गए थे, जिनमें से 4709 प्रकरणों का निराकरण हुआ। उज्जैन निवासी एक दंपती, जो साल 2017 से आपसी मनमुटाव के कारण एक-दूसरे से अलग रह रहे थे, उन दोनों ने अभिभाषक और न्यायाधीश की समझाइश पर साथ रहना स्वीकार किया। वे हंसते-मुस्कुराते कोर्ट परिसर से अपने घर लौटे। इसी प्रकार विवाह के 40 साल बाद जिस पति ने अपनी पत्नी और बच्चों पर भरण-पोषण का केस न्यायालय में लगाया था, उसने भी विवाद खत्म कर साथ रहना स्वीकार किया। फसल बीमा के 23 प्रकरणों का निराकरण किया गया।

1139 लोगों ने जमा किया सवा करोड़ रुपये से ज्यादा संपत्ति करः लोक अदालत के माध्यम से 1139 बकायादारों ने सवा करोड़ रुपये से अधिक संपत्ति कर जमा किया। उन्हें नियमानुसार टैक्स जमा करने पर अधिभार में छूट भी दी गई। 100 से अधिक लोगों द्धारा जलकर जमा करने की भी खबर है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local