Vikas Dubey Arrested : उज्जैन (नईदुनिया प्रतिनिधि)। आठ पुलिसकर्मियों की हत्या कर फरार हुआ उत्तर प्रदेश का मोस्ट वाटेंड गैंगस्टर विकास दुबे को उज्जैन पुलिस ने गुरुवार सुबह ज्योर्तिलिंग महाकाल मंदिर परिसर से गिरफ्तार कर लिया। फर्जी आइडी की सहायता से उसने दर्शन के लिए रसीद लेकर मंदिर परिसर में प्रवेश किया था। इसी दौरान एक सुरक्षाकर्मी को शक होने पर उसे पकड़कर पुलिस चौकी लाया गया।

यहां उसने पहले तो अपना नाम-पता गलत बताया लेकिन पुलिस ने सख्ती की तो उसने अपनी पहचान बता दी। पुलिस ने दुबे के साथ दो वकीलों और शराब कंपनी के मैनेजर सहित चार अन्य को भी हिरासत में लिया है। मैनेजर गैंगस्टर दुबे का दोस्त बताया जा रहा है। इसी ने विकास को उज्जैन बुलाया था। हालाांकि पुलिस ने इस संबध में कोई अधिकृत जानकारी नहीं दी है।

जानकारी अनुसार, गैंगस्टर विकास गुरुवार सुबह 7. 45 महाकाल मंदिर आया था। मंदिर के पिछले हिस्से में स्थित शंख द्वार के सामने उसने एक दुकानदार से दर्शन व्यवस्था के बारे में पूछा। दुकानदार ने उसे 250 रुपये की रसीद लेकर सीधे मंदिर में प्रवेश की व्यवस्था के बारे में बताया। इसके बाद दुबे ने रसीद कटवाई। सूत्रों के अनुसार, रसीद शुभम नाम से बनवाई गई थी। इसी रसीद को लेकर वह मंदिर के भीतर गया और दर्शन किए।

दुकानदार, सुरक्षाकर्मी को हुई शंका

दुबे ने मंदिर परिसर में प्रवेश करते समय मास्क पहना हुआ था। हालांकि दुकानदार से बात करते समय उसने मास्क हटा दिया। उसके हावभाव और चेहरा देखकर दुकानदार को शंका हुई। इस पर दुकानदार ने समीप ही तैनात सुरक्षाकर्मी को इसकी जानकारी दी। इसके बाद दुबे जैसे ही मंदिर से दर्शन कर लौटा सुरक्षाकर्मी उसे मंदिर परिसर में ही स्थित पुलिस चौकी पर ले गए।

पुलिस को बरगलाने की कोशिश

चौकी पर पुलिसकर्मियों ने उससे पूछताछ शुरू की। इस पर उसने अपना फर्जी पहचान पत्र बताते हुए पुलिस को बरगलाने की कोशिश की। पुलिस सूत्रों के अनुसार, एक उपनिरीक्षक ने उससे उसका नंबर पूछा। बताए गए नंबर पर जब कॉल किया गया तो ट्रू कॉलर पर दुबे लिखा आया। इस पर पुलिस ने उससे सख्ती से पूछताछ की तो गैंगस्टर ने अपनी पहचान बता दी। इसके बाद पुलिस के आला अधिकारियों को सूचना दी गई। चौकी से थाने ले जाते वक्त उसने चिल्लाते हुए कहा- मैं विकास दुबे... कानपुर वाला।बाद में उज्जैन एसपी मनोज सिंह उसे गिरफ्तार कर कंट्रोल रूम ले गए। यहां उससे पूछताछ शुरू की गई।

कार से आया उज्जैन

प्रारंभिक जानकारी में यह पता लगा है कि दुबे सड़क रास्ते से उज्जैन पहुंचा था। उज्जैन में पदस्थ शराब कंपनी का एक मैनेजर उसका दोस्त है। उसी ने दुबे को महाकाल बुलाया था। मैनेजर और उसके चार साथियों को पुलिस ने हिरासत में लिया है। इसके अलावा लखनऊ के दो वकीलों से भी पुलिस पूछताछ कर रही है।

जूता स्टैंड पर रखा काला बैग और दर्शन करने चला गया

गैंगस्टर विकास महाकाल मंदिर में एक काला बैग लेकर आया था। दर्शन के लिए रसीद लेने के बाद उसने यह बैग शंख द्वार के सामने स्थित जूता स्टैंड पर रख दिया। इसके बाद मंदिर में चला गया। बाद में पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। करीब दो घंटे बाद पुलिस टीम ने उसका बैग बरामद किया। सूत्रों के अनुसार बैग में कुछ कपड़े और एक चाकू भी था।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस