- 139 करोड़ की योजना को पूरा करने जुटे अफसर, एसीएस ने निरीक्षण कर अफसरों से किया मंथन

- लाइन डलने से महज 5 घंटे के भीतर नर्मदा का पानी उज्जैनी से आ जाएगा उज्जैन

उज्जैन। कमलनाथ सरकार त्रिवेणी को नर्मदा के पानी से लबालब करने की कवायद में जुट गई है। इसके लिए 139 करोड़ की उज्जैनी (इंदौर) से उज्जैन (त्रिवेणी) तक 66 किलोमीटर लंबी पाइप लाइन को मार्च अंत तक पूरा करने की तैयारी तेज कर दी गई है। अतिरिक्त मुख्य सचिव (एसीएस) व एनवीडीए के उपाध्यक्ष रजनीश वैश्य ने मौका मुआयना कर अफसरों के साथ मंथन किया है।

शनिश्चरी अमावस्या (5 जनवरी) पर श्रद्घालुओं को स्नान के लिए नर्मदा का पानी न मिल पाने के बाद प्रदेश सरकार ने अपना पूरा फोकस शिप्रा में नर्मदा का पानी उपलब्ध कराने पर कर दिया है। गुरुवार को एसीएस वैश्य ने त्रिवेणी पर शिप्रा नदी की स्थिति देखी और अफसरों के साथ बैठक कर योजना को जल्द पूरा करने के निर्देश दिए। आने वाले मार्च अंत तक इसे पूरा करने का बीड़ा अफसरों ने उठाया है। इस सिलसिले में एसीएस ने संभागायुक्त अजीत कुमार, कलेक्टर शशांक मिश्रा के साथ त्रिवेणी डेम का निरीक्षण किया। पीएचई के रेस्टहाउस में उन्होंने अफसरों के साथ बैठक भी की। सरकार चाहती है दोबारा इस तरह की स्थिति निर्मित न हो। उन्होंने देवास बैराज से त्रिवेणी घाट तक पानी लाने की तमाम रुकावटों को दूर करने के निर्देश भी संबंधित अफसरों को दिए। नर्मदा घाटी विकास के मेंबर ऑफ इंजीनियर आरपी मालवीय, मुख्य अभियंता एमएस अजनार, एचआर चौहान, चतुरसिंह यादव, नगर निगम आयुक्त प्रतिभा पाल, अधीक्षण यंत्री डीके खटके, सहायक यंत्री अतुल तिवारी, राजेश दाहिमा आदि मौजूद थे। पीएचई रेस्ट हाउस पर एनवीडीए के अधीक्षण यंत्री संजय जोशी ने पाइप लाइन प्रोजेक्ट की जानकारी दी।

देवास बैराज से त्रिवेणी तक का काम पहले पूरा करो

एसीएस वैश्य ने सभी इंजीनियरों व अफसरों को निर्देश दिया कि देवास बैराज से त्रिवेणी घाट तक पानी लाने की सारी बाधाएं दूर करो और पाइप लाइन तेजी से डालो। पाइप लाइन चालू होने से न पानी की बीच में चोरी हो सकेगी न कोई रुकावट हो सकेगी। एनवीडीए के इंजीनियरों ने दावा किया है कि इसे लाइन से महज 5 घंटे में ही उज्जैन से उज्जैन तक आ जाएगा नर्मदा का पानी।

सिर्फ 1 एमसीएम पानी में हो जाएगा स्नान

उज्जैनी से उज्जैन तक पाइप लाइन बिछ जाने के बाद केवल एक एमसीएम नर्मदा के पानी से ही प्रमुख पर्वें के समय श्रद्घालुओं का स्नान त्रिवेणी या रामघाट पर हो सकेगा। केवल 35 एमसीएफटी पानी से त्रिवेणी के अलावा गऊघाट, भूखीमाता व रामघाट के स्टॉपडेम लबालब भर जाएंगे। जब भी इन घाटों पर पानी की जरूरत पड़ेगी, पांच घंटे में पानी आ सकेगा।

पाइप लाइन योजना और स्थिति

- उज्जैनी से त्रिवेणी तक 66 किमी लंबी पाइप लाइन बिछाई जा रही है।

- अब तक 47 किमी लाइन बिछाई जा चुकी है। 19 किमी का ही काम बाकी।

- पाइप लाइन डलने से 5 घंटे के अंदर ही पानी त्रिवेणी व रामघाट तक आ सकेगा।

मकर संक्रांति का महास्नान रामघाट पर होगा, बंधेगी तीन रस्सियां

मकर संक्रांति पर होने वाले महास्नान की तैयारी भी प्रशासन ने शुरू कर दी है। गुरुवार को संभागायुक्त और कलेक्टर ने इसका भी निरीक्षण किया। तय किया गया है कि मुख्य स्नान रामघाट पर ही होगा और सुरक्षा के लिए तीन रस्सियां बांधी जाएंगी। गुरुवार शाम तहसीलदार अनिरूद्घ मिश्रा ने भी तैयारियों का अवलोकन किया। संभागायुक्त और कलेक्टर ने गुरुवार शाम को महाकाल मंदिर की व्यवस्थाएं भी देखीं। मकर संक्रांति पर स्नान के बाद श्रद्घालु दर्शन के लिए बड़ी संख्या में मंदिर आएंगे।