उज्जैन (नईदुनिया प्रतिनिधि)। विश्व प्रसिद्ध ज्योतिर्लिंग महाकाल मंदिर में बुधवार सुबह भारतीय जनता युवा मोर्चा के कुछ कार्यकर्ताओं ने जमकर बवाल मचाया। कार्यकर्ता सुरक्षा व्यवस्था को धता बताते हुए बल पूर्वक नंदी हाल में प्रवेश कर कर गए। इस दौरान कार्यकर्ताओं ने कुछ सुरक्षाकर्मियों के साथ बदसलूकी भी की। पहले तो मंदिर प्रशासन ने घटना को दबाने का प्रयास किया, लेकिन घटना का वीडियो वायरल होने से मंदिर में हड़कंप मच गया।

प्राप्त जानकारी के अनुसार बुधवार को भारतीय जनता युवा मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष तेजस्वी सूर्या महाकाल दर्शन करने पहुंचे। राष्ट्रीय अध्यक्ष के महाकाल दर्शन करने आने की जानकारी मिलने के बाद सैकड़ों कार्यकर्ता मंदिर में जमा हो गए। वीआइपी गेट से पदाधिकारियों के मंदिर में प्रवेश करने के बाद कार्यकर्ताओं की भीड़ भी मंदिर में घुसने का प्रयास करने लगी।

इस पर गेट पर तैनात कर्मचारियों ने उन्हें रोकने का प्रयास किया। बावजूद इसके 100 से 150 कार्यकर्ता वीआइपी गेट से भीतर घुस गए। कार्यकर्ता यहीं नहीं रुके उन्होंने नंदी मंडपम् में प्रवेश के लिए गेट पर लगे बैरिकेड्स को हटाने के प्रयास किया। इस पर यहां मौजूद सुरक्षाकर्मियों ने उन्होंने रोका तो भीड़ बैरिकेड्स धकेलने पर आमादा हो गई। इस दौरान काफी देर तक हंगामा होता रहा। आखिरकार कार्यकर्ता बैरिकेड्स को धकेलकर नंदी हाल में प्रवेश कर गए। घटना के समय मंदिर में कोई भी जिम्मेदार अधिकारी मौजूद नहीं था। इस संबंध में अधिकारी कुछ भी कहने से बचते रहे।

गर्भगृह व नंदी हाल में प्रवेश शुरू करने की जानकारी दी

श्रावण मास के चलते मंदिर समिति ने गर्भगृह व नंदी हाल में भक्तों के प्रवेश पर रोक लगा रखी है। लेकिन मंगलवार रात अचानक मंदिर प्रशासन ने मीडिया को प्रेस विज्ञप्ति जारी कर गर्भगृह व नंदी हाल में सीमित संख्या में प्रवेश शुरू करने की जानकारी दी। मंदिर की जनसंपर्क शाखा से जारी प्रेस नोट में महत्वपूर्ण तथ्यों का उल्लेख नहीं था। मीडिया को यह नहीं बताया गया कि किसकी अनुमति से प्रवेश शुरू किया जा रहा है। ना ही यह बताया गया कि किस समय पर दर्शनार्थियों को गर्भगृह व नंदी हाल में प्रवेश दिया जाएगा। पूछने पर अफसर कुछ भी बताने को राजी नहीं थे। सूत्र बताते हैं कि भाजयुमो के राष्ट्रीय अध्यक्ष के आने की सूचना के बाद मंदिर प्रशासन ने विवाद से बचने के लिए अचानक प्रतिबंधित क्षेत्रों में प्रवेश शुरू कराया था।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close