उमरिया(नईदुनिया प्रतिनिधि)। रेलवे ने दोहरी और तिहरी लाईनो की कनेक्टिविटी के कारण एक बार कई ट्रेनो को रद्द करने की सूचना जारी की है। जिसके तहत शहडोल संभाग से गुजरने वाली 20 ट्रेने करीब 14 दिन नहीं चलेंगी। पिछले दिनों भी ऐसा ही एक आदेश जारी करके कई ट्रेनों को रद्द कर दिया गया था। अभी वह समय पूरा नहीं हुआ और एक बार फिर से रेलवे ने ट्रेनों को रद्द करने का आदेश जारी कर दिया है।

यह ट्रेनें होंगी प्रभावित

जारी आदेश के मुताबिक ट्रेन नंबर 22169-22170 को 26 एवं 25 जनवरी, 20971 को 22 और 29 जनवरी, 20972 को 23 और 30 जनवरी, 18236 को 23 से 31 एवं 18235 को 22 से 30 जनवरी, 18203 को 23, 25 एवं 30 जनवरी, 18204 को 24, 26 तथा 31 जनवरी, 22909 को 20 और 27, 22910 को 23 और 30, 22867 को 25 और 28, 22868 को 26 और 29, 18201 को 21, 26 और 28 एवं 18202 को 23, 28 एवं 30, 20471 को 23, 30, 20472 को 26 व 2 फरवरी, 18247 को 23 से 31, 18248 को 22 से 30, 08740 को 23 से 31, 08739 को 23 से 31 जनवरी तक रद्द कर दिया गया है।

ज्यादा ढोया कोयलाः अनूपपुर के पास तीसरी लाईन जोडे के नाम पर एक सप्ताह पूर्व जितने दिन यात्री ट्रेने बंद रहीं, उस दौरान कटनी-बिलासपुर रूट से माल गाडिय़ां नकेवल अनवरत दौड़ती रहीं बल्कि अन्य दिनो की अपेक्षा इनकी संख्या करीब 10 प्रतिशत ज्यादा दर्ज की गई। यह खुलासा रेलवे से जुड़े सूत्रों ने किया है। उनका दावा है कि रेलवे सिर्फ माल निकालने के लिये इस तरह के कारण बता कर यात्री ट्रेनो को बार-बार रद्द कर रहा है। जिसका खामियाजा क्षेत्र के मुसाफिरों को भोगना पड़ता है। उल्लेखनीय है कि बिलासपुर मंडल के जैतहरी-छुलहा सेक्शन मे तीसरी लाईन कनेक्टिविटी के कारण विगत 9 से 16 जनवरी तक क्षेत्र से गुजरने वाली कई गाडिय़ों को रद्द कर दिया गया था। इस दौरान 8 दिनो तक गाडिय़ों का संचालन ठप्प रहा जिससे नियमित रूप से आवागमन करने वालों के अलावा महीनो पहले अपनी रिजर्वेशन करा कर यात्रा की तैयारी कर चुके यात्रियों को भारी दिक्कत का सामना करना पड़ा था।

तो मालगाडिय़ों का संचालन कैसेः बताया गया है कि उमरिया स्टेशन से रोजाना 60 से 100 अप तथा इतनी ही डाउन गुड्स ट्रेने गुजरती हैं। विगत 9 से 16 जनवरी तक यात्री ट्रेनो को रद्द करने के दौरान इनकी संख्या लगभग 10 प्रतिशत अधिक रही। सवाल उठता है कि यदि तीसरी लाईन जोडे और इंटरलॉकिंग के नाम पर पैसेंजर ट्रेने नहीं निकल पा रही थी तो मालगाडिय़ां कैसे धड़ा-धड़ गुजरती रहीं। इसका जवाब ना तो किसी अधिकारी के पास है नां ही किसी कर्मचारी के पास। इस संबंध मे जिम्मेदार अफसरों का बस एक ही उत्तर है कि हम प्रेस से बात करने के लिये अधिकृत नहीं हैं।

लांग हाल ने किया बदहालः कुछ वर्षो से रेलवे द्वारा चलाई जा रही लॉगहाल भी पैसेंजर ट्रेनो के लिये मुसीबत का सबब बनी हुई हैं। लॉगहाल दो मालगाडिय़ों को एक साथ निकालने का आईडिया है, जिससे समय की बचत के साथ रेलवे को खासी कमाई होती है, परंतु लंबी होने के कारण इन्हे कहीं भी रोका जाना संभव नहीं है। नतीजतन लॉगहाल के पीछे फंसी ट्रेने इन्ही की रफ्तार से चलने को मजबूर रहती हैं। जानकारी के अनुसार प्रतिदिन कटनी-बिलासपुर मार्ग से तकरीबन 5 लॉगहाल निकलती हैं, जिससे कई यात्री गाडिय़ां लेट हो रही हैं।

एमएसटी शुरूः पिछले दो साल साल से ज्यादा समय से बंद एमएसटी 23 जनवरी से शुरू हो रही है। दैनिक यात्रियों के द्वारा बार-बार यह मांग उठाई जा रही थी कि मंथल सीजन टिकट सेवा फिर से बाहल की जाए जिसे देखते हुए रेलवे ने 23 जनवरी से एमएसटी सेवा बहाल कर दी है। हालांकि फिलहाल एमएसटी सिर्फ लोकल ट्रेन में ही चलेगी। जिन ट्रेनों में काउंटर टिकट से यात्रा की जा सकती है उसमें दैनिक यात्री एमएसटी से यात्रा कर सकेंगे। यह जानकारी पीआरओ रेल बिलासपुर अंबिकेश साहू ने दी है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local